17 मई का इंतज़ार ना करें

17 मई का इंतज़ार ना करें


सरकार एक निश्चित समय तक ही lockdown रख सकती है धीरे धीरे lockdown खत्म हो जाएगा सरकार भी इतनी सख्ती नहीं दिखाएगी क्योंकि 
सरकार ने आपको कोरोना बीमारी के बारे में अवगत करा दिया है, सोशल डिस्टैंसिंग, हैण्ड सेनिटाइजेशन इत्यादि सब समझा दिया है
बीमार होने के बाद की स्थिति भी आप लोग देश में देख ही रहे हैं
अब जो समझदार हैं वह आगे लंबे समय तक अपनी दिनचर्या, काम करने का तरीका समझ ले। 


सरकार 24 घंटे  365 दिन आपकी चौकीदारी नहीं करेगी
आपके एवं आपके परिवार का भविष्य आपके हाथ में है
Lockdown खुलने के बाद सोच समझ कर घर से निकलें एवं काम पर जायें... 
व नीयत नियमानुसार ही अपना कार्य करें lक्या लगता है आपको, 17 मई के बाद एकाएक कोरोना चला जायेगा, हम पहले की तरह जीवन जीने लगेंगे ?
नहीं, कदापि नहीं।
ये वायरस अब हमारे देश में जड़ें जमा चुका है, हमे इसके साथ रहना सीखना पड़ेगा।
कैसे ?
सरकार कब तक lockdown रखेगी ?
कब तक बाहर निकलने में पाबंदी रहेगी ?
हमे स्वयं इस वायरस से लड़ना पड़ेगा, अपनी जीवन शैली में बदलाव करके,
अपनी इम्युनिटी स्ट्रांग करके।
हमे सैकड़ों साल पुरानी जीवन शैली अपनानी पड़ेगी।
शुद्ध आहार लें, शुद्ध मसाले खाएं।
आंवला, एलोवेरा, गिलोय, काली मिर्च, लौंग आदि पर निर्भर हों,
एन्टी बाइटिक्स के चंगुल से खुद को आज़ाद करें।
अपने भोजन में पौष्टिक आहार की मात्रा बढ़ानी होगी, फ़ास्ट फ़ूड, पिज़्ज़ा, बर्गर, कोल्ड्रिंक भूल जाएं।
अपने बर्तनों को बदलना होगा, एल्युमिनियम, स्टील आदि से हमें भारी बर्तन जैसे पीतल, कांसा, तांबा को अपनाना होगा जो प्राकृतिक रूप से वायरस की खत्म करते हैं।
अपने आहार में दूध, दही, घी की मात्रा बढ़ानी होगी।
भूल जाइए जीभ का स्वाद, तला-भुना मसालेदार, होटल वाला कचरा।
कम से कम अगले 2 -3 साल तक तो ये करना ही पड़ेगा।
तभी हम सरवाइव कर पाएंगे।
जो नहीं बदले वो खत्म हो जाएंगे।
इस बात को मान कर इन पर अमल करना शुरू कर दें।
Sachin Bharat 


Popular posts
प्राइवेट स्कूल में कक्षा 9 की छात्रा ने मनचलों से परेशान होकर फांसी लगा ली
Image
कुसमुंडा थाना छेत्र अंतर्गत ग्राम अमगांव मे कु जया कंवर (रानू )पिता सुमरन सिंह कंवर ने  अज्ञात कारण के वजह से फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली है
Image
PCS अफ़सर ऋतु सुहास की गवर्नर आनंदी बेन पटेल से मुलाक़ात. 
Image
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।
सदर कैंट के पास ट्रेन से कटकर हुई युवक और युवती की मौत
Image