मेरठ वालों के लिए.. हास्य कविता  

मेरठ वालों के लिए.. हास्य कविता
 
"पुलिस खड़ी है डगर डगर।
आ मत जाना शास्त्रीनगर ।"


"लठ सज़ा रखे हैं हर एक मोड़ पर।
निकलो तो सही  गढ़रोड पर।"



लाल कर देंगे पिछवाड़ा
गलती से आ मत जाना जट्टी वाड़ा।"


"शरीर का छुटा देंगे सारा जंग
गर तुम आये सोतीगंज" 



बदन से निकलेगी आग।
आ मत जाना गांधी बाग।।


दो लाइन और 


सुजा देंगे पूरा का पूरा 
आ मत जाना मालपूड़ा


मार मार के कर तोड़ देंगे हड्डे
जो तुम पधारे हापुड़ अड्डे ।



घर वाला भी ना पहचान पाएगा
अगर अब तू बेगम पुल आएगा


अरे अभी तो ये भी है


 उतार देंगे सारी दादागिरी,
आ मत जाना तेजगढ़ी 


उड़ा देंगे सारी पापा की परी,
हर चौराहे पर है पुलिस खड़ी


लंगड़ाते जाओगे अपने घर की डगर
आ कर तो देखो ट्रांस्पोर्टनगर।


 


तोड़ देंगे शारीर का कोना कोना
जहाँ दिख गए बाबू सोना


जिसको भी खाना हो पुलिस का पेड़ा
आ कर दिखाओ कंकर खेड़ा


सिर्फ मेरठ वालों के लिए


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
AAG विनोद शाही ने CM योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर पद सृजन समेत तमाम मामलों पर किया विचार विमर्श...
Image
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
<no title>
Image
<no title>
Image