समय से मानदेय न मिलने से अनुदेशिका ने लगाई फांसी

समय से मानदेय न मिलने से अनुदेशिका ने लगाई फांसी



            समय से मानदेय न मिलने के कारण अनुदेशिका ने लगाई फांसी जिसके जिम्मेदार बेसिक शिक्षा विभाग स्वयं है इस विभाग में आदेश तो जारी होता है कि समय से मानदेय दिया जाए पर सिर्फ और सिर्फ औपचारिकता ही होती है सिर्फ कोरम पूरा किया जा रहा है सच कुछ और ही होता है कानपुर मंडल में पिछले जनवरी फरवरी-मार्च माह  तक मानदेय नहीं मिला है कारण सिर्फ ग्रान्ट ही नहीं है भविष्य निधि का खाते न खुलने की वजह भी बनी हुई है लेकिन सिर्फ बहाना है अधिकारियों का भविष्य निधि पुरे प्रदेश मे खुलना है लेकिन मानदेय क्यों रोका गया है । 
 *सर्वविदित है कि बेसिक शिक्षा विभाग जुडो कराटे का प्रशिक्षण भी अनुदेशको द्बारा दिया जा चुका है उसका वजट भी है पर अधिकारियों द्भारा अभी तक उसका भी भुगतान नहीं किया गया है ।
        उच्च प्राथमिक अनुदेशक शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन उत्तर प्रदेश  संगठन  अपने राज्य परियोजना निर्देशक महोदय से  निवेदन करता हूँ कि अनुदेशको का मानदेय समस्या को गंम्भीरता से ले साथ ही  मानदेय वृद्धि करते हूये  अनुदेशको  का मानदेय सम्मान जानक स्थिति मे पहुंचने का कष्ट करें जिससे प्रदेश मे कार्यरत अनुदेशको का अपने भविष्य को लेकर निराशा पन दुर हो सके  जिससे भविष्य में कोई अप्रिय घटना न हो ।
       प्रदेश मे कार्यरत अनुदेशको से हाथ जोडकर उच्च प्राथमिक अनुदेशक शिक्षक वेलफेयर एसोसिएशन उत्तर प्रदेश निवेदन करता है कि कोई भी साथी  गलत कदम न उठाये ।


 


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
AAG विनोद शाही ने CM योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर पद सृजन समेत तमाम मामलों पर किया विचार विमर्श...
Image
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
<no title>
Image
<no title>
Image