निजामुद्दीन मरकज खाली, 2361 लोग निकाले गये, 617 अस्पतालों में भरती किए 

निजामुद्दीन मरकज खाली, 2361 लोग निकाले गये, 617 अस्पतालों में भरती किए 


नयी दिल्ली 01 अप्रैल।  दिल्ली के निजामुद्दीन की मरकज को खाली करा लिया गया है और यहां से कुल 2361 लोगों को निकाला गया है। 


उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को बताया कि निज़ामुद्दीन के आलमी मरकज़ में 36 घंटे का सघन अभियान चलाकर सुबह चार बजे पूरी बिल्डिंग को ख़ाली करा लिया गया है। इस इमारत में कुल 2361 लोग बाहर निकाले गये जिनमें से 617 को अस्पतालों में और बाक़ी को अलग-अलग क्वारंटीन में भर्ती कराया गया है।


डिप्टी सीएम सिसोदिया ने लाॅकडाउन में सभी से सहयोग की अपील करते हुए कहा कि क़रीब 36 घंटे के इस अभियान में मेडिकल स्टाफ़, प्रशासन, पुलिस और डीटीसी स्टाफ़ सबने मिलकर तथा अपनी जान जोखिम में डालकर काम किया। इन सबको दिल से सलाम। 


गौरतलब है कि निजामुद्दीन की मरकज में तब्लीगी समाज का कार्यक्रम था जिसमें बडी संख्या में लोग जमा हुए थे। बाद में यहां से लोग देश के विभिन्न राज्यों में गये जिससे कोरोना वायरस का संक्रमण बड़े पैमाने पर फैलने का खतरा उत्पन्न हो गया है।


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
आगरा सेंट्रल जेल के बाद अब जिला कारागार की चारदीवारी में भी पहुंचा कोरोना संक्रमण। 
ठेका लेकर पास कराते थे सीटीईटी परीक्षा,
शिया चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास का बयान हमारे पास कोई इत्तेला नही आयी और शहर में होर्डिंग्स लगाये जा रहे है