जनसंघ का चुनाव चिन्ह 'दीपक' था। उसने आरएसएस की राजनीति का दिया जलाया। फिर 5 अप्रैल 1980 को जनसंघ का नया नामकरण भारतीय जनता पार्टी किया गया और अगले दिन अर्थात 6 अप्रैल 1980 को नयी पार्टी भाजपा का ऐलान किया गया। आरएसएस मानता है कि जनसंघ के 'दीपक' से ही भाजपा का 'कमल' खिला है।

क्रोनोलॉजी समझिए-
जनसंघ का चुनाव चिन्ह 'दीपक' था। उसने आरएसएस की राजनीति का दिया जलाया। फिर 5 अप्रैल 1980 को जनसंघ का नया नामकरण भारतीय जनता पार्टी किया गया और अगले दिन अर्थात 6 अप्रैल 1980 को नयी पार्टी भाजपा का ऐलान किया गया। आरएसएस मानता है कि जनसंघ के 'दीपक' से ही भाजपा का 'कमल' खिला है।
 इस साल 6 अप्रैल को भाजपा की स्थापना का चालीसवाँ स्थापना दिवस पड़ रहा है। इसलिए भाजपा के स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर वह 5अप्रैल को देशभर के लोगों से 'दीपक' जलवा रही ताकि जनसंघ की स्मृतियों और भाजपा के उदय के जश्न को ऐतिहासिक बनाया जा सके।
कोरोना तो एक बहाना है, भला कोरोना का दीपक, मोमबत्ती और टार्च से क्या लेना देना? कोरोना से निपटने के लिये चिकित्सा उपकरणों और सुविधाओं की जरूरत है कि दीपक, मोमबत्ती या टार्च की ?
इस चक्कर में पड़ने से अच्छा है आपस में दूरी बनाकर रहिये और भुखमरी के शिकार गरीबों मजलूमों की मदद कीजिए।


मोमबत्ती या दीपक जलाने से अच्छा
किसी गरीब का चूल्हा जलवाया जाए


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
प्राइवेट स्कूल में कक्षा 9 की छात्रा ने मनचलों से परेशान होकर फांसी लगा ली
Image
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।
लखनऊ चौक इलाके में दिनदहाड़े गोली मार हत्याकर लूट की वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग! 24 घंटे में खुलासा होने का दावा काबीना मंत्री बृजेश पाठक और लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने मृतक के परिजनों और व्यापारी संगठन को दिया था आश्वासन! रुपये से भरा बैग छीनने के दौरान हत्या करने बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग ! 10 दिन बीत जाने के बाद भी लखनऊ पुलिस कमिश्नरी सिस्टम की हाईटेक क्राइम टीम के हाथ अब तक खाली..... 24 घंटे के अंदर बदमाशों को पकड़ने का जिम्मेवारों ने किया दावा हुआ फेल....... व्यापार संगठन एक दिन प्रदर्शन करने के बाद बैठा शांत,गुलदस्ता भेंट के बाद व्हाट्सएप ग्रुप पर अपडेट करने दौर हुआ शुरू बीते 20 फरवरी को चौक रकाबगंज इलाके में बाइक सवार चार बदमाशों ने दिया था रुपये से भरा बैग लूट के बाद हत्या को दिया था अंजाम.. जेल में बन्द बदमाशों को सीसीटीवी में दिखे बदमाशों की फ़ोटो से कराई गई पहचान, एक दर्जन से ज्यादा बदमाशों से की जा चुकी हैं पूछताछ कमला पसंद एजेंसी में दिनदहाड़े बदमाशों का हमला कर लूट का विरोध करने पर बदमाशों ने सुभाष नाम के कर्मचारी को मारी थी गोली, सरकार द्वारा पूरे मामले का संज्ञान लेने के बाद भी लखनऊ पुलिस के हाथ अब तक खाली.......!
सदर कैंट के पास ट्रेन से कटकर हुई युवक और युवती की मौत
Image