भोपाल के इन दो IAS की दूसरी रिपोर्ट भी पॉजिटिव, इलाज जारी मध्यप्रदेश में कोरोना पॉजिटिव (COVID-19) मरीजों का ग्राफ तेजी से रोजाना बढ़ता जा रहा है.

भोपाल के इन दो IAS की दूसरी रिपोर्ट भी पॉजिटिव, इलाज जारी


मध्यप्रदेश में कोरोना पॉजिटिव (COVID-19) मरीजों का ग्राफ तेजी से रोजाना बढ़ता जा रहा है.


 भोपाल. मध्यप्रदेश में कोरोना पॉजिटिव (COVID-19) मरीजों का ग्राफ तेजी से रोजाना बढ़ता जा रहा है. राज्य के अब तक 26 जिले करोना संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं. कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या में दिनों दिन इजाफा देख स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन परेशान और चिंतित हैं. मध्य प्रदेश में पॉजिटिव मामलों की संख्या जहां हज़ार के पार हो चली है. तो वहीं मौत का आंकड़ा भी 5 दर्जन से ज्यादा बढ़ चुका है.


स्वास्थ्य विभाग में फैला संक्रमण


भोपाल में कोरोना वायरस के संक्रमण स्वास्थ्य विभाग तक फैल गया है. आंकड़ों पर गौर करें तो 165 के पार शहर के कोरोना के पॉजिटिव मरीज हैं जिनमें लगभग 95 पॉजिटिव मरीज स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कर्मचारी हैं.


 3 अप्रैल को हेल्थ कॉर्पोरेशन के एमडी जे विजयकुमार की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई. सर्दी खांसी के लक्षण दिखने के बाद 31 मार्च से ही आइसोलेटेड रहे और 4 अप्रैल को प्राइवेट हॉस्पिटल में एडमिट हो गए. 4 अप्रैल को हेल्थ पीएस पल्लवी जैन गोयल की रिपोर्ट पॉजिटिव आई. इनके साथ स्वास्थ्य के और भी दो अधिकारियों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई. रिपोर्ट पॉजिटिव आने के पहले पल्लवी जैन ने कई स्वास्थ्य की समीक्षा बैठकों में भाग लिया. 


ये माना जा रहा है कि पल्लवी जैन और जे विजयकुमार दोनों ही आईएएस, कोरोना कैरियर की तरह काम करते गए और पूरे स्वास्थ्य विभाग को कोरोना संक्रमित बना दिया.​


दूसरी रिपोर्ट भी पॉजिटिव 


सबसे पहले स्वास्थ्य विभाग में कोरोना संक्रमण का शिकार पाए गए हेल्थ कार्पोरेशन के एमडी जे विजय कुमार और स्वास्थ्य विभाग​ की पूर्व प्रमुख सचिव पल्लवी जैन गोविल की 14 दिन बीतने के बाद दोबारा जांच कराई गई. दोनों अधिकारी एक निजी हॉस्पीटल में एडमिट हैं. एम्स भोपाल से आई रिपोर्ट में दोनों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है. 


बताया जा रहा है की रिपोर्ट सोमवार को ही आ गई थी. दोबारा रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर दोनों अधिकारियों को फिलहाल अस्पताल से छुट्टी नहीं मिलेगी. पूर्ण रूप से स्वस्थ्य होने के बाद ही दोनों अधिकारी अस्पताल से डिस्चार्ज हो सकेंगे यानी जब तक टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव नहीं आती अधिकारियों का इलाज अस्पताल में जारी रहेगा.


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
आगरा सेंट्रल जेल के बाद अब जिला कारागार की चारदीवारी में भी पहुंचा कोरोना संक्रमण। 
ठेका लेकर पास कराते थे सीटीईटी परीक्षा,
शिया चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास का बयान हमारे पास कोई इत्तेला नही आयी और शहर में होर्डिंग्स लगाये जा रहे है