भिलाई में मिले तबलीगी जमात के 16 और सदस्य, ओडिशा से लौटकर छिपाई जानकारी

भिलाई में मिले तबलीगी जमात के 16 और सदस्य, ओडिशा से लौटकर छिपाई जानकारी


छत्तीसगढ़ के दुर्ग जिले में पुलिस ने तबलीगी जमात से संबंध रखने वाले ऐसे 16 लोगों को ट्रेस किया है, जो दूसरे राज्यों से यात्रा कर भिलाई पहुंचे थे. इन लोगों ने भिलाई में रहने की सूचना भी छिपाई थी. पुलिस ने ऐसे 8 को पकड़ लिया है. जबकि 8 अन्य की तलाश जारी है.


दुर्ग. छत्तीसगढ़ के दुर्ग  जिले में पुलिस ने तबलीगी जमात से संबंध रखने वाले ऐसे 16 लोगों को ट्रेस किया है, जो दूसरे राज्यों से यात्रा कर भिलाई पहुंचे थे. इन लोगों ने भिलाई में रहने की सूचना भी छिपाई थी. पुलिस ने ऐसे 8 को पकड़ लिया है. जबकि 8 अन्य की तलाश जारी है. 


पकड़े गए सभी लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है. इनके नमूनों का परीक्षण कराया जाएगा. इसके अलावा 8 अन्य की तलाश की जा रही है.


ओड़िशा के भुवनेश्वर में रहकर भिलाई लौटे थे


दुर्ग पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक तबलीगी जमात से संबंध रखने वाले 16 व्यक्ति 40 दिनों तक ओडिशा के भुवनेश्वर में रहकर भिलाई लौटे थे. भुवनेश्वर में इनका संपर्क दिल्ली के मरकज से लौटे तबलीगी जमात के सदस्यों से भी हुआ था. वहीं के जमातियों ने वहां तकरीर कराई थी. भिलाई लौटने के बाद वे अलग अलग स्थानों पर छिप गए थे. 8 लोग एक टेलर के यहां थे. पुलिस की सख्ती से पूछताछ के बाद 8 लोगों की पहचान कर ली गई है.


इनको किया गया ट्रेस
भिलाई के सुपेला पुलिस थाना प्रभारी गोपाल वैश्य ने बताया रामनगर निवासी हफ्फजुल, जामुल निवासी सैय्यद, फरीदनगर निवासी नासिर, इस्लाम नगर निवासी हुजैफा, लक्ष्मी नगर निवासी शहजाद, कैलाश नगर निवासी जुनैद और अरहद समेत सुपेला निवासी इमरान समेत अन्य की पहचान हो गई है. इन्हें प्रशासन की मदद से होम आइसोलेशन में रखा गया है. बाकी की तलाश भी की जा रही है.


Popular posts
ज़िला बिजनौर के नूरपुर मे मोहल्ला बंज़ारन मे कल रात दो बहन भाई को corona positive निकला जिसमें लड़के की उम्र 10 साल और लड़की की उम्र 13 साल बतायी जा
इटावा सड़क हादसे में एक ही परिवार के चार लोगों की दर्दनाक मौत।*
माधवपुरम की मेन रोड पूरी तरह सील - दिल्ली रोड से माधवपुरम और लिसाड़ी रोड को मिलती है ये सड़क।
उन्नाव जिले के बाद अब फतेहपुर जिले में  युवती को किरोसिन डालकर जिंदा जलाया,
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।