कोरोना से जंग - हमारे इम्तिहान का वक्त

कोरोना से जंग - हमारे इम्तिहान का वक्त
हम स्वस्थ तो जग स्वस्थ्अगले कुछ दिनों तक कोशिश करें कि बीमार ना हो क्योंकि अधिकतर मेडिकल स्टाफ कोरोना में व्यस्त है ।
कोरोना का महत्व खुद भी समझे, दूसरों को भी समझाएं।
थोड़ी सी दूरी, है बड़ी समझदारी। आज अपने रिश्तेदारों, दोस्तों, साथियों से दूर रहे, ताकि कल करीब रह सके। कोरोना हवा से नहीं, व्यक्तियों के माध्यम से फैलता है। खुद बचे, दूसरों को बचाएं।
सोशल डिस्टेंस बनाए।घबराए ना, भीड़-भाड़ एवं अफवाहों से बचें। बच्चे, बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं घर से बाहर ना निकले।
आज हाथ जोड़कर अभिनंदन करने की भारतीय एवं हृदय पर हाथ रखकर सहारा प्रणाम करने की परंपरा पूरी दुनिया ने अपना लिया है।
कोरोना वायरस कल तक अदृश्य था। जिसने समूची धरती को अपनी चपेट में ले लिया है। इसका प्रकोप कितना घातक होगा और किस मुकाम पर थमेगा किसी को अंदाजा नहीं है।
इतिहास में ऐसे तमाम अवसर आए हैं, जब *हम भारतीयों ने संकट के समय एकजुटता का परिचय दिया है।* आज का वक्त उससे कहीं अधिक चिंताजनक है, सावधानी बरतें ताकि भारत एकजुट तरीके से कोरोना वायरस से लड़ सके। डॉक्टर, मीडिया, सफाईकर्मचारियों, होमडिलीवरी एवं सरकारी कर्मचारियों आदि का सम्मान करें। *जनता कर्फ्यू का समर्थन करें।
जे पी सिंह एवं सहकर्मी


संभवत *प्रभावित देश-172, संक्रमित- 2,20,000 से ज्यादा, ठीक हुए 84000 से ज्यादा।*
यदि अगर किसी को कोरोना के लक्षण दिखे तो उसे सभी से अलग करें एवं डॉक्टर से मिलें एवं *नेशनल हेल्पलाइन नंबर 011 2397 8046, 1075, Toll free 1800-114000, 1800-114404 पर संपर्क करें।


 


 


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
प्राइवेट स्कूल में कक्षा 9 की छात्रा ने मनचलों से परेशान होकर फांसी लगा ली
Image
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।
लखनऊ चौक इलाके में दिनदहाड़े गोली मार हत्याकर लूट की वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग! 24 घंटे में खुलासा होने का दावा काबीना मंत्री बृजेश पाठक और लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने मृतक के परिजनों और व्यापारी संगठन को दिया था आश्वासन! रुपये से भरा बैग छीनने के दौरान हत्या करने बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग ! 10 दिन बीत जाने के बाद भी लखनऊ पुलिस कमिश्नरी सिस्टम की हाईटेक क्राइम टीम के हाथ अब तक खाली..... 24 घंटे के अंदर बदमाशों को पकड़ने का जिम्मेवारों ने किया दावा हुआ फेल....... व्यापार संगठन एक दिन प्रदर्शन करने के बाद बैठा शांत,गुलदस्ता भेंट के बाद व्हाट्सएप ग्रुप पर अपडेट करने दौर हुआ शुरू बीते 20 फरवरी को चौक रकाबगंज इलाके में बाइक सवार चार बदमाशों ने दिया था रुपये से भरा बैग लूट के बाद हत्या को दिया था अंजाम.. जेल में बन्द बदमाशों को सीसीटीवी में दिखे बदमाशों की फ़ोटो से कराई गई पहचान, एक दर्जन से ज्यादा बदमाशों से की जा चुकी हैं पूछताछ कमला पसंद एजेंसी में दिनदहाड़े बदमाशों का हमला कर लूट का विरोध करने पर बदमाशों ने सुभाष नाम के कर्मचारी को मारी थी गोली, सरकार द्वारा पूरे मामले का संज्ञान लेने के बाद भी लखनऊ पुलिस के हाथ अब तक खाली.......!
सदर कैंट के पास ट्रेन से कटकर हुई युवक और युवती की मौत
Image