निर्भया के दोषियों को 1 फरवरी को भी फांसी होना मुश्किल, ये है टलने की वजह...

निर्भया के दोषियों को 1 फरवरी को भी फांसी होना मुश्किल, ये है टलने की वजह...


निर्भया की मां (Nirbhaya Mother) के वकील जितेंद्र झा का ने कहा- अभी मुझे लगता है कि 74 से 75 दिन और लगेंगे. जज ने माना है कि ये दोषी जानबूझकर सजा में देरी के लिए ये सब कर रहे हैं.


नई दिल्ली. निर्भया कांड (Nirbhaya Rape Case) के दोषियों की फांसी (Capital Punishment)  टल जाने पर निर्भया की मां (Mother) काफी निराश हैं. उन्होंने कहा कि मुझे इंसाफ चाहिए मुझे नहीं मालूम कोर्ट कैसे देगा. आशा देवी ने कहा कि जो मुजरिम चाहते हैं वहीं हो रहा है, तारीख पर तारीख दी जा रही है, हमारा सिस्टम ऐसा है कि जहां दोषी की सुनी जाती है.


*बता दें कि चारों दोषियों को अब 1 फरवरी को सुबह 6 बजे फांसी दी जाएगी. पटियाला हाउस कोर्ट (Patiala House court) ने नई तारीख का ऐलान किया.*
 अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश सतीश कुमार अरोड़ा मामले के दोषी मुकेश कुमार सिंह की याचिका पर शुक्रवार को फांसी की तारीख आगे बढ़ाने से संबंधित याचिका पर सुनवाई की और इसके बाद नया डेथ वारंट जारी किया गया है.



*...तो क्या 1 फरवरी को भी नहीं हो पाएगी फांसी?*


निर्भया की मां के वकील जितेंद्र झा का ने कहा- अभी मुझे लगता है कि 74 से 75 दिन और लगेंगे.  जज ने माना है कि ये डिले की टैक्टिस है. नया डेथ वारंट जारी तो हो गया है, लेकिन कोई भी एक अगर 31 जनवरी की दोपहर 12 बजे से पहले राष्ट्रपति के पास दया याचिका लगा देगा तो फांसी रुक जाएगी. कोर्ट ने दोषियों का नया डेथ वारंट जारी किया है. हालांकि दोषियों के वकील मामले को और खींचने की फिराक में हैं. एक दोषी की उम्र को लेकर आपत्ति जताई जा रही है. इसमें कहा जा रहा है कि घटना के वक्त वह बालिग ही नहीं था.


*हायरकोर्ट जा सकते हैं दोषी*


वहीं दोषियों के वकील ने कहा है कि संविधान को ताक पर रख कर नया डेथ वारंट जारी हुआ है. जज ने ज्युडिशियल माइंड अप्लाई नहीं किया. अभी लीगल रेमिडीज बाकी


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
फिर पलटेगा मौसम, बारिश , ओलावृष्टि की संभावनाएं चेतन ठठेरा
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
कोरोना संक्रमित की बढ़ती संख्या को देखते हुये निजी अस्पतालों में भी मरीजो का इलाज होगा 17 ऐसे निजी अस्पतालों के चयन कर लिया गया है
अरविंद केजरीवाल की ताजपोशी लगातार तीसरी बार संभाली दिल्ली की कमान