लखनऊ विश्वविद्यालय में पेपर लीक कांड में रिकॉर्डिंग वायरल करने वालों की तलाश में जुटी STF 

लखनऊ विश्वविद्यालय में पेपर लीक कांड में रिकॉर्डिंग वायरल करने वालों की तलाश में जुटी STF 


 


लखनऊ विश्वविद्यालय में लॉ का पर्चा लीक कांड की जांच में जुटी एसटीएफ को बातचीत की रिकॉर्डिंग वायरल करने वाले की तलाश है। इसी इरादे से सोमवार को प्रकरण से जुड़े सभी लोगों को एसटीएफ ने नोटिस भेजकर बयान के लिए बुलाया है। एएसपी एसटीएफ विशाल विक्रम सिंह के मुताबिक, आरोपित से ऋचा मिश्रा से हुई बातचीत के बारे में जानकारी मांगी गई। सोमवार देर शाम तक सभी छह लोगों के बयान दर्ज किए जा चुके थे।एसटीएफ के बुलावे पर आरोपित प्रोफेसर अशोक सोनकर के अलावा डीन फैकल्टी सीपी सिंह, प्रोफेसर आरके सिंह, डॉ. दुर्गेश श्रीवास्तव, छात्र अरजीत सिंह और विनीत वर्मा भी एसटीएफ ऑफिस पहुंचे थे। सुबह करीब 10 बजे से सभी को अलग-अलग बुलाया गया। बयान दर्ज करने के दौरान एसटीएफ यह बता लगाने में जुटी रही कि आखिर बातचीत की ऑडियो किसने और क्यों लीक की? सभी ने अपना पक्ष एसटीएफ के समक्ष रखा है, जिसे जांच में शामिल किया जाएगा।एसटीएफ ने उन सभी लोगों की कॉल डिटेल भी खंगाली है, जिन लोगों को बयान दर्ज करने के लिए बुलाया गया था। सूत्रों का कहना है कि कॉल डिटेल रिकॉर्ड में कुछ अहम जानकारियां एसटीएफ के हाथ लगी हैं। सूत्रों का कहना है कि एसटीएफ इस प्रकरण में शामिल सभी लोगों के नाम उजागर करना चाहती है। हालांकि, प्रकरण में मुख्य किरदार रही ऋचा मिश्रा से अभी तक न तो हसनगंज पुलिस और न ही एसटीएफ पूछताछ कर सकी है।गौरतलब है कि लखनऊ विश्वविद्यालय के लॉ विभाग का पेपर लीक होने का (परीक्षार्थी ऋचा मिश्रा को पेपर बताते हुए) ऑडियो वायरल हुआ था। मामला उजागर होने पर कुलपति एसके शुक्ला ने परीक्षाएं निरस्त कर दो आरोपित प्रोफेसरों को निलंबित कर मामले की जांच के आदेश दिए थे। इस घटना के 24 घंटे भी नहीं बीते थे कि परीक्षार्थी ऋचा और कुलपति की बातचीत का ऑडियो भी वायरल हो गया। इसके बाद कुलपति की भूमिका पर भी सवाल उठने शुरू हो गए।मामले की जांच एसटीएफ के हाथ है। ऐसे में जांच में किसी निष्कर्ष पर पहुंचना जल्दबाजी होगी लेकिन विवि में चर्चाएं तमाम हैं। कुलपति एसके शुक्ला को लोग पावरफुल बता रहे हैं तो लॉ के आरोपित प्रोफेसर आरके सिंह, अशोक सोनकर तथा शेखर अस्पताल की संचालिका ऋचा को रसूखदार कहा जा रहा है। कैंपस में चर्चा है कि ऋचा मिश्रा के तार ऊपर तक जुड़े हैं। इसी कारण विवि के कुलपति से लेकर प्रोफेसर तक सीधे संपर्क में थे।


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
NNew positive 7 Total positive 334 Details soon
गिरफ्तार DSP से मेडल वापस लिया जाएगा, शेर-ए-कश्मीर पुलिस मेडल वापस लिया जाएगा, आतंकियों के साथ गिरफ्तार हुआ था देविंदर सिंह,
फिर पलटेगा मौसम, बारिश , ओलावृष्टि की संभावनाएं चेतन ठठेरा
AAG विनोद शाही ने CM योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर पद सृजन समेत तमाम मामलों पर किया विचार विमर्श...
Image