जन आधार कार्ड : परिवार के हर सदस्य का होगा अलग जन आधार नंबर एक अप्रेल से भामाशाह कार्ड जनाधार कार्ड से बदल जाएगा, आधिकारिक लॉन्चिंग 18 दिसंबर को

जन आधार कार्ड : परिवार के हर सदस्य का होगा अलग जन आधार नंबर


एक अप्रेल से भामाशाह कार्ड जनाधार कार्ड से बदल जाएगा, आधिकारिक लॉन्चिंग 18 दिसंबर को


 परिवार के यूनीक नंबर के अलावा हर सदस्य का अलग आइडी नंबर


जयपुर। ए अप्रेल से भामाशाह कार्ड जनाधार कार्ड से बदल जाएगा, जिसकी आधिकारिक लॉन्चिंग 18 दिसंबर को होगी। इसमें परिवार के यूनीक नंबर के अलावा हर सदस्य का अलग आइडी नंबर होगा। भामाशाह में पूरे परिवार का एक ही नंबर होता था। फर्क यह होगा कि पहले 7 अंक और शब्दों के मिलान से नंबर बना था, अब यह सिर्फ अंक आधारित होगा।


बेटी की शादी होने के बाद भी उसकी पहचान उसी नंबर से
हर सदस्य का 11 अंकों का अलग नंबर जारी किया जाएगा। उस सदस्य के लिए जीवनभर यह यूनीक आइडी रहेगी। यानी बेटी की शादी होने के बाद भी उसकी पहचान उसी नंबर से रहेगी। यह नंबर दूसरे परिवार के कार्ड के साथ जुड़ जाएगा। जनाधार कार्ड की 18 दिसंबर को लॉन्चिंग के बाद नया नंबर मिलेगा। यह ई-टीडीएस भरने और स्वास्थ्य बीमा का लाभ लेने के लिए रहेगा।


मोबाइल ऐप भी होगा लॉन्च
जनाधार का मोबाइल ऐप भी लॉन्च होगा। इससे भी नया नंबर पता लगाया जा सकेगा। जनाधार कार्ड में अप्रैल तक 75 योजनाएं जोड़ी जाएंगी। पंचायतों में राजीव केन्द्रों पर ई-मित्र और जनाधार योजना की सेवाएं चलाई जाएंगी।


आपको यों मिलेगी सूचना
नंबर बदलने की सूचना एसएमएस से दी जाएगी। व्यक्ति को अपना ई-कार्ड डाउनलोड करना होगा। कार्ड की हार्डकॉपी वितरित करने के लिए वितरण योजना अलग से बनाई जा रही है। कार्ड में परिवार के दो जनों का आधार नंबर देना जरूरी होगा या भामाशाह में पहले से दिए हुए आधार नंबर मान्य होंगे। इसके बाद ये आधार नंबर प्रमाणित किए जाएंगे। केंद्र सरकार की किसी योजना के लिए आधार नंबर जरूरी होगा।


*जन आधार कार्ड योजना के लाभ*
- राशन कार्ड से मिलने वाली सुविधाओं का लाभ जन आधार कार्ड से मिल सकेंगा ।
-पेंशनकर्मियों को हर साल जीवित प्रमाण पत्र बनवाना पड़ता था अब नहीं योजना के तहत यह प्रमाण पत्र हर साल नहीं बनवाना पड़ेगा।
-परिवार के प्रत्येक सदस्यों का नाम आटो एड हो जाएगा । बार-बार नाम जुड़वाने की जरूरत नहीं होगी।
-जन आधार कार्ड एक परिवार की एक पहचान बनेगा यानि एक कार्ड, एक नम्बर, एक पहचान।
-ई-कॉमर्स और बीमा सुविधाओं का लाभ भी इसी कार्ड से मिले पाएगा।


*जन आधार कार्ड की मुख्य बातें*
- भामाशाह कार्ड की तरह यह कार्ड भी महिला के नाम से बनेगा।
-अगर किसी परिवार में महिला नहीं है तो पुरूष के नाम से भी जन आधार कार्ड बनाया जा सकता हैं।
-इस कार्ड में परिवार के सभी सदस्यों को जोड़ा जाएगा ।
-जन आधार कार्ड में आपको 10 अंक का पंजीयन नम्बर दिया जायेगा।
जिसका भामाशाह कार्ड पहले से बना हुआ है उसे जन आधार कार्ड बनवाने की जरूरत नहीं है। उस परिवार को मोबाइल नम्बर पर SMS मैसेज या फोन करके 10 अंक का पंजीयन नम्बर भेजा जायेगा।
-जिस परिवार का भामाशाह कार्ड नहीं बना हुआ है उसे ही नया कार्ड जन आधार कार्ड बनवाना होगा।
 


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
<no title>
Image
गिरफ्तार DSP से मेडल वापस लिया जाएगा, शेर-ए-कश्मीर पुलिस मेडल वापस लिया जाएगा, आतंकियों के साथ गिरफ्तार हुआ था देविंदर सिंह,
<no title>
Image