बैंकॉक   में बोले पीएम मोदी- अब 5 साल में ऐसे काम करने हैं जो अब तक असंभव थे

बैंकॉक   में बोले पीएम मोदी- अब 5 साल में ऐसे काम करने हैं जो अब तक असंभव थे


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी तीन दिन की यात्रा पर थाइलैंड पहुंच गए हैं. यात्रा के पहले दिन बैंकॉक के निमिबत्र स्‍टेडियम में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए हजारों लोगों की मौजूदगी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने चिरपरिचित अंदाज में नमस्कार, केम छो, वडक्कम बोलकर लोगों को रोमांचित कर दिया। पीएम मोदी ने कहा, भारतीयों ने थाइलैंड को अपने रंग में रंग दिया है। यहां पर भारत के पूर्वी हिस्से से काफी लोग आए हैं। आज भारत में छठ का पर्व मनाया जा रहा है।


प्रधानमंत्री ने भारत और थाइलैंड के बीच संबंधों का जिक्र करते हुए कहा, ''हमारे रिश्ते सरकारों के कारण नहीं है। इतिहास की हर घटना ने हमारे संबंधों को गहरा किया है। नई ऊंचाईयों पर पहुंचाया है। हमारे रिश्ते दिल के हैं। आध्यात्म के हैं,हमारा जुड़ाव हजारों साल पुराना है, भारत के दक्षिण पूर्वी और पश्चिमी तट हजारों साल पहले दक्षिण पूर्वी एशिया के साथ समुद्र के साथ जुड़े हैं। हमारे नाविकों ने हजारों मील का रास्ता तय कर संस्कृति और समृद्धि के सेतु बनाएं हैं, वह आज भी विद्धमान हैं।''


 


पीएम मोदी ने कहा, ''भगवान राम की मर्यादा और बुद्ध की करुणा हमारी साझी विरासत है। गरुड़ के प्रति थाइलैंड में गहरी आस्था है। हम भाषा के जरिए भी एक दूसरे से जुड़े हैं। भारतीय जहां भी रहते हैं, उनमें भारतीयता रहती है। जब भारतीयों को तारीफ होती है, तो मुझे गर्व की अनुभूति होती है। पूरे विश्व में भारतीय समुदाय की ये छवि हर हिंदुस्तानी के लिए बहुत गर्व की बात है। इसके लिए विश्व भर में फैले हुए आप सभी बंधु बधाई के पात्र हैं। मुझे इस बात की खुशी होती है, विश्व में जहां भी भारतीय रहते हैं, वह भारत के संपर्क में रहते हैं।'


पीएम मोदी ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा, आज 130 करोड़ भारतीय न्यू इंडिया के निर्माण में लगे हैं। आज लोगों को भारत में परिवर्तन साफ दिखाई देते होंगे।इसी का परिणाम है कि इस बार के चुनाव में लोगों ने मुझे एक बार फिर चुना। इस बार सबसे ज्यादा 60 करोड़ लोगों ने वोट डाले। ये लोकतंत्र की सबसे बड़ी घटना है।लोगों की हैरत होती है कि इतने बड़े चुनाव होते कैसे हैं. पहली बार महिला मतदाता पुरुषों के बराबर वोट कर रही हैं।


 


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
फिर पलटेगा मौसम, बारिश , ओलावृष्टि की संभावनाएं चेतन ठठेरा
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
कोरोना संक्रमित की बढ़ती संख्या को देखते हुये निजी अस्पतालों में भी मरीजो का इलाज होगा 17 ऐसे निजी अस्पतालों के चयन कर लिया गया है
अरविंद केजरीवाल की ताजपोशी लगातार तीसरी बार संभाली दिल्ली की कमान