चार माह से फरार चल रहे थाना अधिकारी ने आखिर आत्म समपर्ण कर दिया*

*चार माह से फरार चल रहे थाना अधिकारी ने आखिर आत्म समपर्ण कर दिया*


बजरी से भरे वाहनों से वसूली के मामले में बीते 4 माह से फरार चल रहे तत्कालीन थानाप्रभारी पीपलू (जिला टोंक) विजेंदर सिंह गिल ने शुक्रवार को भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो जिला यूनिट अजमेर के समक्ष समर्पण कर दिया। एसीबी ने गत 16 मई को बजरी से भरे प्रति ट्रक तीन हजार रुपए वसूली करने का मामला खुलासा किया था।


एसओजी की जांच में सामने आया था कि तत्कालीन थानाप्रभारी पीपलू वीजेंदर सिंह कांस्टेबल कैलाश जाट के जरिए रात को बजरी के ट्रक निकलवाने के एवज में प्रति ट्रक तीन हजार रुपए लेता है। एसीबी ने कांस्टेबल कैलाश को 6000 रुपए लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया था। टोंक एसीबी ने आरोपी कैलाश से मौके पर ही ट्रकों से वसूली की गई 1.46 लाख रुपए रकम भी बरामद की थी।


जांच में सामने आया था कि थानाप्रभारी विजेंद्र सिंह गिल ने कांस्टेबल कैलाशचंद जाट को वसूली के नियुक्त कर रखा था। वह रातभर बजरी के ट्रकों से सिर्फ वसूली का काम करता था। वसूली में से कुछ राशि थानाप्रभारी उसे भी देता था। जानकारी के अनुसार थानाधिकारी की उस समय एक रात की कीमत लगभग 70 हजार से एक रुपए मानी गई थी।


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
AAG विनोद शाही ने CM योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर पद सृजन समेत तमाम मामलों पर किया विचार विमर्श...
Image
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
<no title>
Image
<no title>
Image