यू पी बोर्ड की कापियों क़ा मूल्यांकन नही करेंगे 80%शिक्षक

यू पी बोर्ड की कापियों क़ा मूल्यांकन नही करेंगे 80%शिक्षक


balrampur/आगामी 5 मई से शुरू हो रहे यू पी बोर्ड परीक्षा की कापियों क़े मूल्यांकन कार्य में प्रदेश क़े 80% शिक्षक असुरक्षा की दृष्टि से सहयोग नही करेंगे।
 बतादें की यू पी बोर्ड में वित्तविहीन शिक्षकों क़ा प्रतिशत 80 है जिससे मूल्यांकन कार्य काफी तेजी से हो सकता था  । 
उक्त आशय की जानकारी देते हुए वित्तविहीन शिक्षक संघ क़े  जिलाअध्यक्ष आर बी सिंह औऱ महामंत्री जय चन्द शुक्ला ने बताया कि वर्तमान विषम परिस्थितियों में सरकार क़ा सौतेला व्यवहार ऐसा करने को मजबूर कर रहा है । कोविड-19 से सुरक्षा क़े लिये सरकार दोहरा मानदंड अपना रही है । सरकारी शिक्षकों को अलग श्रेणी में रखते हुए    कार्य में लगे राजकीय शिक्षकों क़े कोरोना संक्रमित होने पर 25 से 50 लाख की क्षतिपूर्ति औऱ आर्थिक सहायता देने की बात कर रही है जबकि उसी कार्य को करने वाले अल्प वेतन भोगी वित्तविहीन शिक्षकों को किसी भी तरह की प्रतिपूर्ति ना दिये जाने से शिक्षक आहत भी हैँ औऱ नाराज भी ऐसी दशा में मूल्यांकन कार्य करना खतरों से भरा है । इसलिए वित्तविहीन महासभा मूल्यांकन कार्य में शामिल नही होगा ।


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
आगरा सेंट्रल जेल के बाद अब जिला कारागार की चारदीवारी में भी पहुंचा कोरोना संक्रमण। 
ठेका लेकर पास कराते थे सीटीईटी परीक्षा,
शिया चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास का बयान हमारे पास कोई इत्तेला नही आयी और शहर में होर्डिंग्स लगाये जा रहे है