भाई की मौत की खबर सुनकर पॉजिटिव बहन वार्ड से निकलकर परिसर में घूमी

भाई की मौत की खबर सुनकर पॉजिटिव बहन वार्ड से निकलकर परिसर में घूमी


"बीते गुजरे लम्हो की सारी बात तड़पाती है,दिल की सुर्ख दीवारों  पे बस याद ही रह जाती है,बाकी सब सपने होते है,अपने तो अपने होते है"लेकिन आज यह सपने,अपने और रिश्ते सब टूटे और बिछड़ते नजर आने लगे है,देश और दुनियाँ में फैली कोविड-19 महामारी के पैर पसारते ही लोग अपने अपने लोगो के मरने के बाद शक्ल तक देखने को तरस रहे है,अपने और पराये इस बीमारी से हो रही मौत से अपनो से दूर भागते नजर आ रहे है,लेकिन एक पॉजिटिव बहन अपने कोरोना बीमारी से लड़ते लड़ते जंग में हार गये भाई के शव को अंतिम बार देखने की चाहत में आज सैफई विश्वविद्यालय परिसर में बने कोविड-19 अस्पताल के बाहर परिसर में अस्पताल के वार्ड से निकलकर नीचे परिसर में आ गयी और देखते ही देखते अफरा तफरी का माहौल पैदा हो गया अपने भाई की एक झलक देखने के लिये तीसरी मंजिल पर बने वार्ड में भर्ती पॉजिटिव महिला  मौत की खबर सुनकर बदहवास होकर नीचे अस्पताल के बाहर परिसर में आ गयी,जैसे ही महिला परिसर में आई वैसे ही आस पास के इलाके में अफरा तफरी मच गई,अपने भाई की मौत की खबर सुनकर एक झलक  अपने भाई के शव को देखने के लिये महिला इधर उधर टहलने लगी और लोग उसको देखकर भागने लगे,प्रेम नगर फिरोजाबाद निवासी 40 वर्षीय कोरोना पॉजिटिव युवक की आज सैफई कोविड-19 अस्पताल में मौत हो गयी,बहन भी अस्पताल की तीसरी मंजिल पर बने वार्ड पर भर्ती है,भाई की मौत की खबर सुनकर पॉजिटिव बहन दोपहर वार्ड से बाहर नीचे परिसर में आकर टहलने लगी,दोनो भाई बहन 4 अप्रैल को सैफई में भर्ती हुए थे,आनन फानन में सीओ सैफई चंद्रपाल सिंह और एसओ सैफई मोके पर पहुँचे और उन्होंने महिला को समझा बुझाकर वार्ड में जाने को कहा,कम से कम दो घन्टे बाद महिला अपने वार्ड में पहुँची।।।


अब तक 4 कोरोना पॉजिटिव मरीजो की मौत


22 अप्रेल से सैफई विश्वविद्यालय में बने कोविड-19 अस्पताल में 73 मरीज भर्ती हुये थे,जिसमे 62 मरीजो की रिपोर्ट नेगेटिव आने के बाद उनको डिस्चार्ज किया जा चुका है और अब तक 4 मरीजो की मौत हो चुकी है,2 मरीजो की मौत के बाद कोरोना टेस्टिंग रिपोर्ट पॉजिटिव आयी थी और 2 मरीज पॉजिटिव होकर भर्ती थे जिनकी मौत हो गयी।। भावना की पुकार संवाददाता


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
आगरा सेंट्रल जेल के बाद अब जिला कारागार की चारदीवारी में भी पहुंचा कोरोना संक्रमण। 
ठेका लेकर पास कराते थे सीटीईटी परीक्षा,
शिया चांद कमेटी के अध्यक्ष मौलाना सैफ अब्बास का बयान हमारे पास कोई इत्तेला नही आयी और शहर में होर्डिंग्स लगाये जा रहे है