सोशल मीडिया पर भड़काया तो आजीवन कैद तक की सजा

सोशल मीडिया पर भड़काया तो आजीवन कैद तक की सजा


अगर कोई शख्स दो समूहों या वर्गों के बीच नफरत फैलाने के लिए कोई रिपोर्ट या स्टेटमेंट जारी करता है तो उसके खिलाफ आईपीसी (IPC) की धारा-505 के तहत केस दर्ज किया जा सकता है। सोशल मीडिया पर ऐसी अफवाह की वजह से आईटी एक्ट 2000, आईटी एक्ट 2008 (एमेंडमेंट) के तहत आजीवन कारावास तक की सजा हो सकती है। इसमें पुलिस सीधे गिरफ्तार कर सकती है |


कौन-कौनसे मामले इसके अंतर्गत आते हैं ?


अफवाह फैलाने/ फेक न्यूज़ के मामले, यानि की जो तथ्य या घटना है ही नहीं, जो असत्य है। उसे समाज में सोशल मीडिया के माध्यम जैसे कि फेसबुक, ट्विटर, टिक टॉक, व्‍हाट्सएप, इंस्टाग्राम, अन्य मैसेजिंग एप्स आदि से सरकार की नीति-नियमों को तोड़ –-मरोड़कर पेश करना।


अशांति फैलाने के उद्देश्य से किए गए मैसेजेस/ वीडियो सन्देश/फोटोग्राफ़ , ऑडियो मैसेजेस , चैट्स, ईमेल आदि को फैलाना शामिल है।


कौन कौन से एक्ट के तहत दर्ज होगी FIR ?


डाटा या आंकड़ों को गलत तरीके से पेश करना-धारा 71
आपसी विश्वास और निजता को भंग करने से संबंधित प्रावधान-धारा 72 ए
आपत्तिजनक सूचनाओं के प्रकाशन से जुड़े प्रावधान-धारा 67
 किसी की निजता भंग करने के लिए दंड का प्रावधान-धारा 66 ई
साइबर आतंकवाद के लिए दंड का प्रावधान-धारा 66 एफ
आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 54 और आईपीसी (IPC) की धारा-505


Popular posts
ज़िला बिजनौर के नूरपुर मे मोहल्ला बंज़ारन मे कल रात दो बहन भाई को corona positive निकला जिसमें लड़के की उम्र 10 साल और लड़की की उम्र 13 साल बतायी जा
दिहाड़ी मजदूरों के भुगतान के लिए शासनादेश जारी,
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।
भारत में अपराध के बढ़ते ग्राफ पर अमेरिका-इंग्लैंड ने नागरिकों के लिए जारी की सुरक्षा एडवायजरी।
वाहन चेकिंग को लेकर बड़ा कदम, यूपी पुलिस नहीं करेगी पेपर चेक: डीजीपी