मलेशिया सरकार, पाकिस्तान सरकार, सऊदी अरब सरकार और फिलिस्तीन सरकार ने अपने यहां कोरोना के मरीजों का जो डाटा बना रही है उसमें तबलीगी जमात का कालम जोड़कर यह लिखा जा रहा है कि कौन-कौन से मरीज तबलीगी जमात के कार्यक्रम से आए

मलेशिया सरकार, पाकिस्तान सरकार, सऊदी अरब सरकार और फिलिस्तीन सरकार ने अपने यहां कोरोना के मरीजों का जो डाटा बना रही है उसमें तबलीगी जमात का कालम जोड़कर यह लिखा जा रहा है कि कौन-कौन से मरीज तबलीगी जमात के कार्यक्रम से आए


 क्योंकि तबलीगी जमात का कार्यक्रम मलेशिया में हुआ था पाकिस्तान में भी हुआ था और भारत में भी हुआ था और पाकिस्तान और मलेशिया के तबलीगी जमात के कार्यक्रम में सऊदी अरब फिलिस्तीन और दूसरे कई इस्लामिक देशों के लोग गए थे।


 दरअसल किसी भी संक्रमण बीमारी में मरीज का यह डाटा रखना जरूरी होता है उस बीमारी का मूल सोर्स उसमें कहां से आया और साथ ही साथ आने वाले भविष्य  में जब डॉक्टर और वैज्ञानिक लोग इस पर रिसर्च करेंगे तब उनको भी यह जानने में मदद मिलेगी कि करोना वायरस का कम्युनिटी लेवल पर संक्रमण कितना हुआ और विदेशों से कितना संक्रमण आया।


ऊपर के सभी देख इस्लामिक हैं उन्हें जमातीयो  का अलग कलम बनाने में कोई दिक्कत नहीं हुई लेकिन इधर भारत में बंगाल सरकार राजस्थान सरकार और महाराष्ट्र सरकार ने आपत्ति जताई है कि जमातीओं का अलग कलम नहीं बनाया जाए और इन राज्य सरकारों ने जमातीयों का डाटा हटा दिया है


 


Popular posts
ज़िला बिजनौर के नूरपुर मे मोहल्ला बंज़ारन मे कल रात दो बहन भाई को corona positive निकला जिसमें लड़के की उम्र 10 साल और लड़की की उम्र 13 साल बतायी जा
इटावा सड़क हादसे में एक ही परिवार के चार लोगों की दर्दनाक मौत।*
माधवपुरम की मेन रोड पूरी तरह सील - दिल्ली रोड से माधवपुरम और लिसाड़ी रोड को मिलती है ये सड़क।
उन्नाव जिले के बाद अब फतेहपुर जिले में  युवती को किरोसिन डालकर जिंदा जलाया,
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।