लॉकडाउन में ड्यूटी के बोझ से परेशान आरक्षक ने,मानसिक तनाव में खुद को गोली मारी

लॉकडाउन में ड्यूटी के बोझ से परेशान आरक्षक ने,मानसिक तनाव में खुद को गोली मारी


 
बता दें कि गोली चलने से बाकी पुलिस वाले सकते में आ गए और गांव में दहशत फैल गयी। बताया जा रहा है कि चेतन लॉकडाउन और कर्फ्यू के दौरान ड्यूटी के बोझ से परेशान था। गर्मी में लगातार ड्यूटी और शिफ्ट से ज्यादा काम करने के कारण वो परेशान था।


 


मध्‍य प्रदेश की राजधानी भोपाल में लॉकडाउन के दौरान ड्यूटी पर तैनात एक पुलिस जवान ने खुद को गोली मार ली। गोली उसके कंधे में लगी जवान की हालत गंभीर है, उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां ऑपरेशन किया जा रहा है। शुरुआती जांच में गोली चलाने का कारण आरक्षक का तनाव में रहना बताया जा रहा है। उसकी लगातार ड्यूटी लगाई जा रही थी, जिससे वह मानसिक तनाव में था। 


क्या है पूरा मामला.


प्राप्त जानकारी के अनुसार,भोपाल के नीलबड़ इलाके में ड्यूटी पर तैनात पुलिस जवान ने खुद को गोली मार ली। जवान का नाम चेतन ठाकुर है। वो रातीबड़ थाने में तैनात है उसने पहले अपनी सर्विस रिवॉल्वर हवा में लहरायी साथ में तैनात पुलिस के बाकी साथी चेतन को काबू में कर पाते उससे पहले ही उसने खुद को गोली मार ली। गोली उसके कंधे में जा धंसी। मौके पर पहुंचने का बाद लहूलुहान हालत में जमीन पर पड़े आरक्षक को गाड़ी में रख कर उसे निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत गंभीर बनी हुई है। एसपी साईं कृष्णा ने बताया कि चेतन ठाकुर ने गोली चलाई है, जिसमें वह खुद भी घायल हुआ है। ऑपरेशन के बाद वह खतरे से बाहर है। स्थिति में सुधार होने पर हम उनसे बात करेंगे। चेतन से बातचीत के बाद ही बताया जा सकेगा कि उसने गोली आखिरकार खुद को क्यों मारी।


डीआईजी अस्पताल पहुंचे................


चेतन को फौरन एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया जहां उसका ऑपरेशन किया जा रहा है। खबर मिलते ही डीआईजी इरशाद वली भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने चेतन का हाल जाना और इलाज के बारे में डॉक्टरों से जानकारी ली।


Popular posts
ज़िला बिजनौर के नूरपुर मे मोहल्ला बंज़ारन मे कल रात दो बहन भाई को corona positive निकला जिसमें लड़के की उम्र 10 साल और लड़की की उम्र 13 साल बतायी जा
इटावा सड़क हादसे में एक ही परिवार के चार लोगों की दर्दनाक मौत।*
माधवपुरम की मेन रोड पूरी तरह सील - दिल्ली रोड से माधवपुरम और लिसाड़ी रोड को मिलती है ये सड़क।
उन्नाव जिले के बाद अब फतेहपुर जिले में  युवती को किरोसिन डालकर जिंदा जलाया,
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।