इंदौर के मुस्लिम इलाकों में छह दिन में 127 मौत, अधिकारी बोले- इनमें कोरोना नहीं

इंदौर के मुस्लिम इलाकों में छह दिन में 127 मौत, अधिकारी बोले- इनमें कोरोना नहीं


इंदौर के प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि यहां मुस्लिमों में अन्य समय की तुलना में इस समय मृत्यु दर में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. मार्च महीने में 130 लोगों को दफनाया गया था, जबकि अप्रैल में 1-6 तारीख तक 127 लोगों की मौत हुई है.


इंदौर 11अप्रैल ।  देश के कोविड-19 हॉटस्पॉट में से एक इंदौर का प्रशासन कोरोना वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने के लिए हाथ-पांव मार रहा है. लेकिन अब अधिकारियों के सामने कोरोना वायरस से लड़ने के सि​लसिले में एक और सिरदर्द उभकर आ गया है. अधिकारियों का कहना है कि शहर में मुस्लिमों में अन्य समय की तुलना में इस समय मृत्यु दर (Mortality Rate) में असामान्य बढ़ोतरी दर्ज की गई है.


महू नाका कब्रिस्तान में 64 लोगों को दफनाया


उनका कहना है कि मृत्युदर का यह सिलसिला पिछले एक-दो सप्ताह से जारी है. बीते गुरुवार को शहर के चार कब्रिस्तानों में 21 लोगों को दफनाया गया. अकेले महू नाका के कब्रिस्तान में 1 से 9 अप्रैल तक के 64 लोगों को दफनाया गया है, जिनमें गुरुवार को 11 शामिल हैं.


 खजराना स्थित कब्रिस्तान में महीने के पहले नौ दिनों के अंदर 34 मुर्दे दफनाए गए हैं, जिनमें से एक गुरुवार को दफ्न किया गया. इस अवधि में सिरपुर में 29 दफनाए गए. यहां गुरुवार को तीन लोगों को दफनाया गया था. लुनियापुरा में नौ दिनों में 56 लोगों को दफनाया गया. इनमें छह लोगों को गुरुवार को दफनाया गया था. यह आंकड़ा एक राष्ट्रीय हिंदी दैनिक अखबार से लिया गया है.


मार्च में 130 दफनाए गए
रिपोर्ट में कहा गया है कि इन चार कब्रिस्तानों में मार्च महीने में दफनाए गए 130  लोगों की तुलना में यहां अप्रैल के पहले छह दिनों में 127 को दफन किया गया.


तीन हॉस्पिटलों ने इलाज करने से किया था मना


बुजुर्ग महिला मुमताज की मौत 7 अप्रैल को हो गई. उनके बेटे मोहम्मद इकराम ने बताया कि मेरी मां को सीने की बीमारी थी और तीन अस्पतालों ने उनका इलाज करने से मना कर दिया. इसके बाद महाराजा यशवंतराव के डॉक्टरों ने उन्हें निमोनिया बताया और उन्हें आईसीयू में दाखिल किया. उनकी COVID-19 रिपोर्ट निगेटिव थी. पिता की चार महीने पहले हुई मृत्यु के बाद से वह शोक संतप्त थी और वह किसी से मिलती जुलती नहीं थीं.


कशिश उन्नीसा की मौत 6 अप्रैल को हो गई. उनके पोते ज़बीर अली ने बताया कि एनकी दादी 85 वर्ष की थीं. उन्हें कोई बीमारी नहीं थी. उनकी अचानक मौत हो गई. मोहम्मद अंजुम ने बताया कि उनके ससुर मोहम्मद नूर ओडिशा के निवासी थे. उनका इंदौर में कुछ साल पहले  हार्ट सर्जरी हुई थी. वे बैचेनी महसूस कर रहे थे इसलिए शहर लौट आए और उनकी हाल ही में मौत हो गई. इन मृतक परिवारों के किसी भी सदस्य में कोरोना वायरस के लक्षण नहीं पाएग गए हैं.


Popular posts
ज़िला बिजनौर के नूरपुर मे मोहल्ला बंज़ारन मे कल रात दो बहन भाई को corona positive निकला जिसमें लड़के की उम्र 10 साल और लड़की की उम्र 13 साल बतायी जा
लखनऊ चौक इलाके में दिनदहाड़े गोली मार हत्याकर लूट की वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग! 24 घंटे में खुलासा होने का दावा काबीना मंत्री बृजेश पाठक और लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने मृतक के परिजनों और व्यापारी संगठन को दिया था आश्वासन! रुपये से भरा बैग छीनने के दौरान हत्या करने बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग ! 10 दिन बीत जाने के बाद भी लखनऊ पुलिस कमिश्नरी सिस्टम की हाईटेक क्राइम टीम के हाथ अब तक खाली..... 24 घंटे के अंदर बदमाशों को पकड़ने का जिम्मेवारों ने किया दावा हुआ फेल....... व्यापार संगठन एक दिन प्रदर्शन करने के बाद बैठा शांत,गुलदस्ता भेंट के बाद व्हाट्सएप ग्रुप पर अपडेट करने दौर हुआ शुरू बीते 20 फरवरी को चौक रकाबगंज इलाके में बाइक सवार चार बदमाशों ने दिया था रुपये से भरा बैग लूट के बाद हत्या को दिया था अंजाम.. जेल में बन्द बदमाशों को सीसीटीवी में दिखे बदमाशों की फ़ोटो से कराई गई पहचान, एक दर्जन से ज्यादा बदमाशों से की जा चुकी हैं पूछताछ कमला पसंद एजेंसी में दिनदहाड़े बदमाशों का हमला कर लूट का विरोध करने पर बदमाशों ने सुभाष नाम के कर्मचारी को मारी थी गोली, सरकार द्वारा पूरे मामले का संज्ञान लेने के बाद भी लखनऊ पुलिस के हाथ अब तक खाली.......!
26 अक्टूबर से बंद हो जाएगा पुलिस का dial 100
आज स्वामीप्रसाद प्रसाद मौर्य यूथ बिर्गेड के सरक्षक उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद ने अपनी मौर्य बिर्गेड के मेरठ जिला प्रभारी अनिल मौर्य के द्वारा मेरठ टीम के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग की बिर्गेड द्वारा  किये गए सामाजिक कार्यो की समीक्षा की
Image
इटावा सड़क हादसे में एक ही परिवार के चार लोगों की दर्दनाक मौत।*