स्कूलों का बंद होना, सिनेमाहालों एवं सार्वजनिक कार्यक्रमों का रद्द होना, ट्रेनों का रद्द होना, अंतरराष्ट्रीय उडानों को स्थगित किया जाना ही प्रमाण है कि स्थिति गंभीर है,

सौ बात की एक बात ये है कि शासन कभी खुल के खतरे के बारे में नहीं कहती है ताकि जनता में हंगामा न मचे, पर स्कूलों का बंद होना, सिनेमाहालों एवं सार्वजनिक कार्यक्रमों का रद्द होना, ट्रेनों का रद्द होना, अंतरराष्ट्रीय उडानों को स्थगित किया जाना ही प्रमाण है कि स्थिति गंभीर है,
तो अब बहुत हुआ हंसी मजाक या व्हाट्सएपिया ज्ञान...


अब थोड़ा गंभीर हो जाइये..
तुरंत सेनेटाइजर, डेटॉल का रूम disinfector और हैंडवॉश खरीदें,
सेनेटाइजर जेब/पर्स में ले के चले और हैंडवॉश वाशबेसिन के पास रखें या एक बाल्टी पानी घर के दरवाजे पर रखें।
भीड़ वाली जगह जाने से बचें,
लोगों से थोड़ी दूरी बना कर बात करें और शारिरिक संपर्क न बनाए।


लहसुन, प्याज के चक्कर में न रहे, दुनिया के किसी देश के पास इसका इलाज नहीं है और कम से कम 6 माह तक होगा भी नहीं आपकी जागरूकता और सावधानी ही अभी एक मात्र उपाय है।


Popular posts
ज़िला बिजनौर के नूरपुर मे मोहल्ला बंज़ारन मे कल रात दो बहन भाई को corona positive निकला जिसमें लड़के की उम्र 10 साल और लड़की की उम्र 13 साल बतायी जा
इटावा सड़क हादसे में एक ही परिवार के चार लोगों की दर्दनाक मौत।*
माधवपुरम की मेन रोड पूरी तरह सील - दिल्ली रोड से माधवपुरम और लिसाड़ी रोड को मिलती है ये सड़क।
उन्नाव जिले के बाद अब फतेहपुर जिले में  युवती को किरोसिन डालकर जिंदा जलाया,
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।