कोरोना :   कुछ  तो  गड़बड़  है ... !

 


           कोरोना :   कुछ  तो  गड़बड़  है ... !


 वुहान  से  शंघाई   =     629 km
 वुहान  से  बीजिंग  =    1052 km
वुहान  से  मिलान  =    8700 km
 वुहान  से  न्यूयॉर्क =   12000 km
वुहान  से  ईटली   =     8670 km
 वुहान  से  लन्दन   =     8880 km
 वुहान  से  पेरिस   =     8900 km
वुहान  से  स्पेन     =     9830 km
 वुहान  से  भारत    =     3575 km
वुहान  से  ईरान    =     6560 km


 वुहान  के  पास  के  शहर  बीजिंग  /  शंघाई  में  कोरोना  का  कोई  भी  प्रभाव  नहीं  पड़ा,   लेकिन ... 
 इटली,  ईरान,  यूरोप  देशों  में  लोगों  की  मृत्यु  और  पूरे  विश्व  की  अर्थव्यवस्था  बर्बाद ... !
चीन  के  सभी  व्यापारिक  क्षेत्र  सुरक्षित ... !


कुछ  तो  गड़बड़  है ... !*
अमेरिका  ऐसे  ही  नहीं  चीन  को  दोष  दे  रहा  है ... !


हम  हिन्दुस्तान - पाकिस्तान,  हिन्दू - मुस्लिम,  नेहरू  - गांधी - सावरकर,   धारा - 370,   CAA,  शाहीन  बाग,  मध्यप्रदेश  खेलते  रहे !  
आतंक  का  डर  दिखा  के  अमेरिका  हमारा  बीच  -  बचाव  करता  रहा   और   हमें  हथियार  बेचता  रहा   और ...  
 उधर  चीन  ने  पूरे  विश्व  की  आर्थिक - स्थिति  बद  से  बदतर  कर  दी   और   खुद  आज  सुरक्षित  होकर  बैठा  है !
 इसे  कहते  हैं  —  विश्व  पर  राज  करने  की  दूर - दृष्टि   और  लंबी  साजिश ... !
 वुहान  से  निकला  वायरस  पूरी  दुनिया  में  पहुँच  गया  पर  बीजिंग,  शंघाई  नहीं  पहुँचा ... !     क्यों ... ?


दुनिया  में  बड़े - बड़े  लोगों  को  कोरोना  हो  चुका  है,   हॉलीवुड - स्टार,  ऑस्ट्रेलिया  के  गृह - मंत्री,  ब्रिटेन  के  स्वास्थ्य - मंत्री,   स्पेन  के  प्रधानमत्री  की  पत्नी   और   अब  तो  ब्रिटेन  के  प्रिंस  चार्ल्स  को  भी  कोरोना  हो  चुका  है,  परन्तु   चीन  में  एक  भी  नेता,   एक  भी  मिलिट्री - कमान्डर  को  कोरोना  ने  टच  भी  नहीं  किया  है ... !   क्यों ... ?


 कोरोना  वायरस  ने  दुनिया - भर  में  इकॉनमी  को  बर्बाद  कर  दिया  है,   हजारों  की  जान  जा  चुकी  है,  लाखों  को  ये  बीमारी  हो  चुकी  है  और  अनगिनत  लोग  घरों  में  बन्द  कर  दिये  गये  हैं,   कई  देशों  में  लॉक - डाउन  हो  चुका  है,  जिसमें  भारत  भी  एक  है !


 कोरोना  वायरस  चीन  के  वुहान  शहर  से  निकला  है   और   अब  ये  दुनिया  के  कोने - कोने  में  पहुँच  चुका  है,   पर  ये  वायरस  वुहान  के  ही  पास  चीन  की  राजधानी :   बीजिंग   और   आर्थिक - राजधानी :  शंघाई  तक  नहीं  पहुँचा,  क्यों ... ?


 आज  पेरिस  बन्द  है,   न्यू यॉर्क  बन्द  है,   बर्लिन  बन्द  है,  रोम  बन्द  है,  दिल्ली  बन्द  है,  मुंबई  बन्द  है,  टोक्यो  बन्द  है,   दुनिया  के  प्रमुख  आर्थिक   और   राजनीतिक   केंद्र   बन्द  हैं,   परन्तु  बीजिंग   और   शंघाई  खुले  हुऐ  हैं,   वहाँ   कोरोना  ने  कोई  असर  ही  नहीं  दिखाया !  गिने - चुने  केस  सामने  आये  परन्तु  एक  तरह  से  बीजिंग  और  शंघाई  पर  कोरोना  का  कोई  असर  ही  नहीं  हुआ,  क्यों ... ?


बीजिंग  वो  शहर  है,  जहाँ  चीन  के  सभी  नेता  रहते  हैं,   यहाँ  मिलिट्री - लीडर  रहते  हैं,  चीन  की  सत्ता  को  चलाने  वाले  यहाँ  रहते  है,   बीजिंग  में  कोई  लॉक - डाउन  नहीं  है !   ये  खुला  हुआ  है !   यहाँ  कोरोना  का  कोई  असर  नहीं,   क्यों ... ? 


 शंघाई  वो शहर  है  जो  चीन  की  इकॉनमी  को  चलाता  है,  ये  चीन  की  आर्थिक - राजधानी  है,  यहाँ  चीन  के  सभी  अमीर  लोग  रहते  हैं !   इंडस्ट्री  को  चलाने  वाले  रहते  है,   यहाँ  भी  कोई  लॉक - डाउन  नहीं,  यहाँ  कोरोना  का  कोई  असर  नहीं ... !    क्यों ... ?


क्या  कोरोना  एक  पाला  हुआ  वायरस  है,   जिसे  बता  दिया  गया  है  की  तुम्हें  दुनिया - भर  में  आतंक  मचाना  है,   पर  तुम  बीजिंग  और  शंघाई  नहीं  आओगे,  चीन  से  ये  सवाल  पूछा  जाना  बहुत  जरुरी  है  की  जब  दुनिया  के  बड़े  -  बड़े  विकसित  देश  कोरोना  को  नहीं  रोक  सके !    दुनिया  के  बड़े - बड़े  शहरों  में  कोरोना  ने  आतंक  मचा  दिया  तो  ये  विरुस्व  बीजिंग  क्यों  नहीं  पहुँचा ... ? ;   शंघाई  क्यों  नहीं  पहुँचा ... ?   क्यों ... ?


बीजिंग  और  शंघाई,  वुहान  से  लगे  हुए  इलाके  ही  है !   वुहान  से  निकला  वायरस  दुनिया  के  कोने - कोने  में  पहुँच  गया,   पर  ये  वायरस  बीजिंग  और  शंघाई  नहीं  पहुँचा ... !       क्यों ... ?


आज  पूरा  भारत  और  130  करोड़  भारतीय  भले  ही  लॉक - डाउन  हो  चुके  हैं !    हमारी  इकॉनमी  ठप्प  हो  रही  है,   परन्तु  चीन  के  सभी  प्रमुख  शहर  खुले  हुआ  हैं   और   तो   और   अब  8  अप्रैल  से  चीन  वुहान  को  भी  खोल  रहा  है !   पूरी  दुनिया  आतंक  से  त्रस्त  हो  चुकी  है !   चीन  में  अब  नये  केस  भी  सामने  नहीं  आ  रहे  हैं   और   चीन  खुला  हुआ  है ... !   क्यों ... ?


 एक  और  बड़ी  चीज  यह  है  कि  दुनिया - भर  का  शेयर - मार्किट  लगभग  आधा  गिर  चुका  हैं !    भारत  में  भी  निफ्टी  12  हज़ार  से  7  हज़ार  तक  पहुँच  गया  है !   परन्तु  चीन  का  शेयर - मार्किट  3  हज़ार  पर  था  जो  2700  पर  ही  है !   चीन  के  मार्केट  पर  भी  इस  वायरस  का  कोई  असर  नहीं  है ... !   क्यों ... ?


 ये  जो  भी  चीजें  हैं,   वो  सिर्फ  एक  बात  की  ओर  इशारा  करती  हैं   कि  कोरोना  चीन  का  एक  बायो - केमिकल  हथियार  है,   जिसे  चीन  ने  दुनिया  -  भर  में  तबाही  के  लिए  बनाकर  छोड़  दिया  है !   अपने  यहाँ  कुछ  लोगों  को  मरवा  कर  चीन  ने  अब  इस  वायरस  पर  कन्ट्रोल  कर  लिया  है !   कदाचित  उसके  पास  दवाई  भी  है,   जो  कि  वो  दुनिया  से  शेयर  नहीं  कर  रहा  है ! 


 आखिर  क्यों ... ?


 


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
प्राइवेट स्कूल में कक्षा 9 की छात्रा ने मनचलों से परेशान होकर फांसी लगा ली
Image
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।
लखनऊ चौक इलाके में दिनदहाड़े गोली मार हत्याकर लूट की वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग! 24 घंटे में खुलासा होने का दावा काबीना मंत्री बृजेश पाठक और लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने मृतक के परिजनों और व्यापारी संगठन को दिया था आश्वासन! रुपये से भरा बैग छीनने के दौरान हत्या करने बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग ! 10 दिन बीत जाने के बाद भी लखनऊ पुलिस कमिश्नरी सिस्टम की हाईटेक क्राइम टीम के हाथ अब तक खाली..... 24 घंटे के अंदर बदमाशों को पकड़ने का जिम्मेवारों ने किया दावा हुआ फेल....... व्यापार संगठन एक दिन प्रदर्शन करने के बाद बैठा शांत,गुलदस्ता भेंट के बाद व्हाट्सएप ग्रुप पर अपडेट करने दौर हुआ शुरू बीते 20 फरवरी को चौक रकाबगंज इलाके में बाइक सवार चार बदमाशों ने दिया था रुपये से भरा बैग लूट के बाद हत्या को दिया था अंजाम.. जेल में बन्द बदमाशों को सीसीटीवी में दिखे बदमाशों की फ़ोटो से कराई गई पहचान, एक दर्जन से ज्यादा बदमाशों से की जा चुकी हैं पूछताछ कमला पसंद एजेंसी में दिनदहाड़े बदमाशों का हमला कर लूट का विरोध करने पर बदमाशों ने सुभाष नाम के कर्मचारी को मारी थी गोली, सरकार द्वारा पूरे मामले का संज्ञान लेने के बाद भी लखनऊ पुलिस के हाथ अब तक खाली.......!
सदर कैंट के पास ट्रेन से कटकर हुई युवक और युवती की मौत
Image