जो भी प्राइवेटाइजेशन के समर्थक थे। जो ये बोलते थे कि इससे बेहतरीन सेवाएं मिलेंगी उनसे आज मेरा सवाल है इन 1. क्या कोई प्राइवेट एयरलाइंस आगे आयी कॉरोना के संकट के समय विदेशों में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए

जो भी प्राइवेटाइजेशन के समर्थक थे। जो ये बोलते थे कि इससे बेहतरीन सेवाएं मिलेंगी उनसे आज मेरा सवाल है इन
1. क्या कोई प्राइवेट एयरलाइंस आगे आयी कॉरोना के संकट के समय विदेशों में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए
2. कोई प्राइवेट हॉस्पिटल आगे आया इलाज में मदद करने
3. कोई उद्योगपति आगे आया मदद के लिए 
4. किसी प्राइवेट स्कूल या कॉलेज ने अपनी बिल्डिंग ऑफर की सेंटर बनाने के लिए।


मुसीबत के समय सिर्फ  सरकार और  सरकार के कर्मठ कर्मचारी ही आपका सहारा बनेंगे।


आज भी सभी सरकारी कर्मचारी जिनको कोई भी मुंह उठा कर निठल्ला और कामचोर बोलने लगता है। वही लोग सामने खड़े हैं मदद के लिए अपनी जान जोखिम में डालकर।


स्वास्थ्य विभाग, बिजली, सेना, पुलिस, शिक्षा विभाग, इम्मीग्रेशन विभाग, एयर इंडिया और बाकी सभी सरकारी विभाग और तंत्र जो आपकी और आपके परिवार की सुरक्षा के लिए अपनी परवाह किए बिना डटे हुए हैं उनको मेरा सलाम है🙏🙏


Popular posts
प्राइवेट स्कूल में कक्षा 9 की छात्रा ने मनचलों से परेशान होकर फांसी लगा ली
Image
कुसमुंडा थाना छेत्र अंतर्गत ग्राम अमगांव मे कु जया कंवर (रानू )पिता सुमरन सिंह कंवर ने  अज्ञात कारण के वजह से फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली है
Image
PCS अफ़सर ऋतु सुहास की गवर्नर आनंदी बेन पटेल से मुलाक़ात. 
Image
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।
सदर कैंट के पास ट्रेन से कटकर हुई युवक और युवती की मौत
Image