एक किताब है नाम the eyes of darkness  1981 को पब्लिश हुई थी इसमे लिखा है कि कॅरोना वायरस को चीन ने अपने शहर वुहानके एक लैब में सबसे छुपा कर बनाया था

एक किताब है नाम the eyes of darkness  1981 को पब्लिश हुई थी इसमे लिखा है कि कॅरोना वायरस को चीन ने अपने शहर वुहानके एक लैब में सबसे छुपा कर बनाया था ,बाद में चीन इसको use करेगा अपनी गरीब लोगों की आबादी कम करने के लिए जिससे कि उसे सुपर पावर बनने में आसानी हो ,और इस बुक में कॅरोना वायरस का नाम वुहान 400 के नाम पर है इस किताब में पहले ही बता दिया है कि आगे चलकर चीन इस वायरस का उपयोग करेगा बायो लॉजिकल हथियार के रूप में 
लेखक का नाम dean Koontz
किताब के पेज 353 से 356


Popular posts
ज़िला बिजनौर के नूरपुर मे मोहल्ला बंज़ारन मे कल रात दो बहन भाई को corona positive निकला जिसमें लड़के की उम्र 10 साल और लड़की की उम्र 13 साल बतायी जा
इटावा सड़क हादसे में एक ही परिवार के चार लोगों की दर्दनाक मौत।*
माधवपुरम की मेन रोड पूरी तरह सील - दिल्ली रोड से माधवपुरम और लिसाड़ी रोड को मिलती है ये सड़क।
उन्नाव जिले के बाद अब फतेहपुर जिले में  युवती को किरोसिन डालकर जिंदा जलाया,
महाराष्ट्र कोरोना संकट के कुप्रबंधन का डरावना उदाहरण है। 2334 मरीज सामने आ चुके हैं। 160 की मौत हो गई। मुंबई भारत का सबसे डरावना शहर बन गया है। सामने आए 1757 संक्रमितों में 111 जान गंवा चुके हैं।