ठंड में होने वाली बीमारियों से बचने के लिये होम्योपैथिक अस्पताल के डॉक्टर ने बताए उपाय

ठंड में होने वाली बीमारियों से बचने के लिये होम्योपैथिक अस्पताल के डॉक्टर ने बताए उपाय


सर्दी में नवजात शिशुओं को डायरिया व निमोनिया जैसी बीमारियों की होती है अक्सर शिकायत-डॉ.मो.फहीम


ज्ञात हो कि भीषण ठंड व बदलते मौसम का सेहत पर कई तरह से असर पड़ता है वहीं कुछ बीमारियां इस मौसम में घात लगाए रहती है जिसमे से एक निमोनिया इस मौसम में जरा सी लापरवाही खासतौर से बच्चों के लिए घातक हो सकती है।*


*वहीं होम्योपैथी के डॉ. मो.फहीम ने बताया कि ठंड के कारण नवजात शिशुओं की विशेष देखभाल की आवश्यकता है।निमोनिया और डायरिया की शिकायत अक्सर एक वर्ष से कम उम्र के शिशुओं को अधिक होती है वहीं ऐसे में माताओं को चाहिए कि वह बच्चों को ठंड से बचाकर रखें।*


वहीं डॉ. मो.फहीम ने निमोनिया होने का प्रमुख कारण बताया कि स्ट्रेप्टोकोकस निमोनिया नाम का रक बैक्टीरिया होता है जो कि फेफड़ों को संक्रमित करके स्वासन प्रणाली को प्रभावित करता है वहीं कई बार किसी फ्लू वायरस की वजह से भी निमोनिया हो जाता है।वहीं यदि बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है तो वह जल्द ही इसकी चपेट में आ सकते हैं जिसमे होम्योपैथिक मेडिसिन रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का कार्य करती है।*


किस रोग ईलाज होता है होम्योपैथी में?


आप बता दें होम्योपैथी में कई प्रकार के ईलाज जैसे हृदय रोग,चर्म रोग,बाल रोग,बाल झड़ना,ल्यूकोरिया,एलर्जी,ट्यूमर,महामारी व अन्य कई रोगों का ईलाज करने में सक्षम है।


Popular posts
फिर पलटेगा मौसम, बारिश , ओलावृष्टि की संभावनाएं चेतन ठठेरा
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
कोरोना संक्रमित की बढ़ती संख्या को देखते हुये निजी अस्पतालों में भी मरीजो का इलाज होगा 17 ऐसे निजी अस्पतालों के चयन कर लिया गया है
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
अरविंद केजरीवाल की ताजपोशी लगातार तीसरी बार संभाली दिल्ली की कमान