शामली: सिपाही ने पुलिस लाइन में फांसी लगाई

शामली: सिपाही ने पुलिस लाइन में फांसी लगाई


बुधवार की देर रात पुलिस लाइन में तैनात एक सिपाही ने पुलिस लाइन में एक पेड़ पर फंदा डालकर फांसी लगा ली। बताया जाता है कि मृतक सिपाही मेरठ जनपद के डालूहेड़ा गांव का निवासी है तथा पिछले कई सालों से वह शामली में सिपाही के पद पर तैनात था।


मिली जानकारी के अनुसार शामली पुलिस लाइन में मेरठ के डालूहेड़ा निवासी हरेंद्र यादव ने पुलिस लाइन परिसर में एक पेड़ पर फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक सिपाही पिछले काफी दिनों से तनाव में था। बताया यह भी जा रहा था कि उसका घर में किसी बात को लेकर विवाद हो गया था। बुधवार को दिन में भी किसी बात को लेकर उसकी कहासुनी हुई। जिसके बाद वह काफी तनाव में आ गया था। देर रात उसका साथी सिपाही मैस में खाना खाने के बाद जब लौटा तो सिपाही हरेंद्र का शव एक पेड़ पर फांसी के फंदे पर लटका मिला। सूचना पर उच्च अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर शव का मुआयना किया और पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मृतक सिपाही के परिजनों को भी इसकी सूचना दे दी गई है। बताया जाता है कि वह 2011 में पुलिस में भर्ती हुआ था। पुलिस आत्महत्या के कारणों की जांच में जुटी हुई है। बताया जा रहा है कि सिपाही हरेंद्र की पत्नी रचना यादव भी पुलिस लाइन में ही सिपाही के पद पर तैनात है।


कोट एसपी---


हरेंद्र सिंह पुत्र सुरेंद्र सिंह निवासी ग्राम डालूहेड़ा थाना जानी जिला मेरठ वर्तमान में रिजर्व पुलिस लाइन शामली में आरक्षी के पद पर तैनात थे, जो पुलिस विभाग में वर्ष 2011 में भर्ती हुए। आज रात करीब 10 बजे उक्त आरक्षी द्वारा नाइलोन की रस्सी से फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली गयी है । प्रथम दृष्टया आत्महत्या का कारण पारिवारिक विवाद होना प्रकाश में आया है । परिजन पुलिस लाइन आ गए हैं। इस सम्बंध में पुलिस द्वारा आवश्यक विधिक कार्रवाई की ज�


Popular posts
मेरठ में कोरोना पोजेटिव केसों की संख्या बढ़ कर हुई 81 लगातार बढ़ रहे केसों ने न केवल स्वास्थ विभाग में हड़कंप मचा रखा है बल्कि अब मेरठ की जनता की भी बेचैनी बढ़ा दी है ।
दिल्ली के CGO कॉम्प्लेक्स में BSF कार्यालय को बंद किया गया   BSF के एक कर्मचारी की रिपोर्ट  कल रात को कोरोना पॉजिटिव आई
क्या है रासुका (NSA)  ?
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से 5, कालीदास मार्ग आवास जाकर आज  नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने की मुलाकात...
Image
लॉकडाउन 4 -  फॉरकंटेनमेंट जोन को छोड़कर बाकी जोन में एक राज्य से दूसरे राज्यों में आपसी सहमति से बसें जा पाएंगी।  रेड और ऑरेंज जोन के अंदर कंटेनमेंट और बफर जोन बनाए जाएंगे।जिलाधिकारी तय कर सकेंगे।