नोएडा पति ने मेट्रो के आगे कूदकर की खुदकुशी, पत्नी ने बेटी के साथ लगाई फांसी -  

नोएडा पति ने मेट्रो के आगे कूदकर की खुदकुशी, पत्नी ने बेटी के साथ लगाई फांसी -



 
नोएडा के सेक्टर 128 में रहने वाली एक महिला ने पति के मेट्रो ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या करने के बाद अपनी बेटी को फांसी लगाकर उसकी हत्या कर दी और इसके बाद उसने पंखे से लटककर खुदकुशी कर ली।



नोएडा थाना एक्सप्रेसवे के प्रभारी निरीक्षक भुवनेश कुमार ने बताया कि मूल रूप से चेन्नई निवासी 30 वर्षीय भरत जे दिल्ली स्थित एक कंपनी में महाप्रबंधक के पद पर काम करता था। वह नोएडा के सेक्टर 128 में जेपी पवेलियन सोसाइटी में अपनी पत्नी शिवरंजनी, बेटी जयश्री और भाई कार्तिक के साथ रहता था।


उन्होंने बताया कि भरत ने शुक्रवार को पूर्वाह्न करीब साढ़े 11 बजे दिल्ली के जेएलएन मेट्रो स्टेशन पर ट्रेन के आगे कूदकर आत्महत्या कर ली। उसके शव को दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल में भेजा गया है। घटना की सूचना पाकर उनकी पत्नी शिवरंजनी अपने देवर के साथ अस्पताल पहुंची। उसके बाद वह देर शाम घर लौटकर आई।


 
थाना प्रभारी ने बताया कि शिवरंजनी ने अपने फ्लैट में शुक्रवार देर रात अपनी बेटी को फांसी लगाने के बाद पंखे से फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। उन्होंने बताया कि आत्महत्या के कारणों का कोई सुराग नहीं मिला है


पति द्वारा आत्महत्या किए जाने के पश्चात पत्नी ने की बच्ची सहित आत्महत्या। उक्त संबंध में 
नोएडा पुलिस के मुताबिक, प्रारंभिक जांच में मृतक भरत जे. के परिवार में तनाव के किसी कारण का पता नहीं चल सका है। हालांकि आर्थिक संकट की बात कही जा रही है। मृतक के भाई ने पुलिस को बताया कि फिलहाल उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं चल रही थी। फिलहाल, पुलिस मामले की जांच कर रही है ।


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
<no title>
Image
गिरफ्तार DSP से मेडल वापस लिया जाएगा, शेर-ए-कश्मीर पुलिस मेडल वापस लिया जाएगा, आतंकियों के साथ गिरफ्तार हुआ था देविंदर सिंह,
<no title>
Image