निर्भया के दोषियों को एक साथ दी जाएगी फांसी, तख्त की मजबूती का किया जा रहा परीक्षण

निर्भया के दोषियों को एक साथ दी जाएगी फांसी, तख्त की मजबूती का किया जा रहा परीक्षण


फांसी देने के लिए 8 रस्सियां मांगने की खबर है। इन्हें बक्सर जेल से मंगाया गया है, जिन्हें कैदियों ने तैयार किया है। सॉफ्ट कॉटन से तैयार इस रस्सी में मक्खन और मोम भी लगाया जाता है ताकि यह नरम और मजबूत भी रहे।


यह पहला मौका होगा, जब एक ही जगह पर चार लोगों को एक साथ फांसी की सजा दी जाएगी


इसकी वजह यह है कि यदि किसी शख्स को बेचैनी के चलते समस्या हो जाती है या फिर वह बीमार हो जाता है तो फांसी टालनी होगी
फांसी के तख्त का परीक्षण किया जा रहा है कि क्या चार लोगों का वजन एक बार में यह उठा सकता है या नहीं
वक़्त नहीं है?


नई दिल्ली 


तिहाड़ जेल प्रशासन निर्भया के दरिंदगी के चारों दोषियों को एक साथ ही फांसी पर लटकाने की तैयारी में है। यदि ऐसा होता है तो यह पहला मौका होगा, जब एक ही जगह पर चार लोगों को एक साथ फांसी की सजा दी जाएगी। जेल सूत्रों के मुताबिक एक साथ ही चारों को फांसी देने के लिए एक नई तकनीक का परीक्षण किया जा रहा है। फांसी के तख्त में कुछ बदलाव के जरिए यह काम किया जा रहा है। इसके अलावा यह भी देखा जा रहा है कि क्या चार लोगों का वजन एक बार में यह उठा सकता है या नहीं। 


सूत्रों ने कहा कि यह जरूरी है कि चारों दोषियों को एक ही साथ फांसी पर लटकाया जाए। इसकी वजह यह है कि यदि किसी शख्स को बेचैनी के चलते समस्या हो जाती है या फिर वह बीमार हो जाता है तो फांसी टालनी होगी। अब तक करीब दो ट्रायल किए जा चुके हैं कि क्या लगातार तीन घंटे तक फांसी का तख्त इनका वजन उठा सकता है या नहीं। 


फांसी के तख्त की मजबूती का हो रहा परीक्षण 


जेल अधिकारियों की पूरी एक टीम इस पूरी प्रक्रिया में जुटी है। तिहाड़ जेल के सूत्रों ने बताया कि यहां 'फांसी कोठा' 1950 के करीब बना था। इसमें दो कंक्रीट के खंभे हैं और उनमें एक लोहे की छड़ लगी है। इस पर ही एक लूप तैयार किया गया है, जिसका इस्तेमाल फांसी देने के लिए किया जाता है। सूत्रों के मुताबिक इसमें लगी छड़ काफी पुरानी हो जाने के चलते और कमजोर हो गई है। एक जेल अधिकारी ने नाम उजागर न करने की शर्त पर बताया, 'हम फिलहाल एक्सपर्ट्स की मदद से इस छड़ की क्षमता का अनुमान लगा रहे हैं। इसकी मजबूती के लिए कुछ अतिरिक्त निर्माण भी किया जा सकता है।'


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
NNew positive 7 Total positive 334 Details soon
गिरफ्तार DSP से मेडल वापस लिया जाएगा, शेर-ए-कश्मीर पुलिस मेडल वापस लिया जाएगा, आतंकियों के साथ गिरफ्तार हुआ था देविंदर सिंह,
फिर पलटेगा मौसम, बारिश , ओलावृष्टि की संभावनाएं चेतन ठठेरा
AAG विनोद शाही ने CM योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर पद सृजन समेत तमाम मामलों पर किया विचार विमर्श...
Image