झक मारती रह गयीं योगी की पुलिस बाहुबली अखंड सिंह ने ऐसे किया कोर्ट में सरेंडर

 


झक मारती रह गयीं योगी की पुलिस बाहुबली अखंड सिंह ने ऐसे किया कोर्ट में सरेंडर


मायावती के करीबी अखंड पर ईनाम बढ़कर हुआ था ढ़ाई लाख


प्रदेश के सभी एसपी व क्राइम ब्रांच को भेजी गयी अखंड की प्रोफाइल व फोटो।


वर्ष 2017 में अतरौलिया विधानसभा से अखंड प्रताप सिंह को चुनाव लड़ा चुकी है बसपा।


विभिन्न थानों में दर्ज है तीन दर्जन गंभीर मामले, डेढ़ माह पहले घोषित हुआ था एक लाख का ईनाम।


फरार बसपा नेता की गिरफ्तारी के लिए पुलिस की की टीमें उतरी थी मैदान में लेकिन नहीं मिली सफलता।


*वाराणसी/आजमगढ़:* पूर्व मुख्यमंत्री मायावती के करीबी बसपा नेता बाहुबली अखंड प्रताप सिंह ने बृहस्पतिवार को आजमगढ़ की एक अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। अखंड को गिरफ्तार करने में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नाकाम रहीं पुलिस। पकड़ने के लिए ईनाम की धनराशि एक लाख से बढ़ाकर ढ़ाई लाख कर दिया था। साथ ही घोषणा की है कि जो भी अखंड को गिरफ्तार कराएगा उसे एक लाख रूपये का ईनाम अलग से दिया जाएगा। साथ ही मुखबिर का नाम भी गोपनीय रखा जाएगा। यहीं नहीं कप्तान ने यूपी के सभी एसपी और क्राइम ब्रांच को अखंड का फोटो और प्रोफाइल भेजा है ताकि कहीं भी गतिविध करे तो उसे पकड़ा जा सके। इसके पहले पुलिस अखंड के घर कुर्की की नोटिस व मुनादी भी करा चुकी थी। बाहुबली की गिरफ्तारी के लिए कई टीमें व साइबर सेल को भी लगाया है लेकिन पुलिस की सारी रणनीति फेल साबित हुई।


मूल रूप से तरवां थाना क्षेत्र के जमुआ गांव निवासी बाहुबली अखंड प्रताप सिंह को मायावती के करीबी माने जाते हैं। वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव में बसपा ने इन्हें अतरौलिया से मैदान उतारा था लेकिन अखंड सपा के राष्ट्रीय महासचिव बलराम यादव के पुत्र डा. संग्राम यादव से चुनाव हार गए थे। अखंड तरवां ब्लाक से ब्लाक प्रमुख भी रह चुके हैं।


अखंड के आपराधिक इतिहास की बात करें तो पहली बार 11 मई 2013 को ट्रांसपोर्टर धनराज यादव की हत्या के मामले में चर्चा में आये थे। पुलिस के मुताबिक अखंड के खिलाफ विभिन्न थानों में तीन दर्जन से अधिक मामले दर्ज हैं। यूपी में बीजेपी की सरकार बनने के बाद से ही अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई तेज हो गयी है। पुलिस अखंड की गिरफ्तारी के लिए लगातार प्रयासरत में थी। इसके लिए कई टीमों का गठन किया साथ ही साइबर सेल को भी लगाया गया था लेकिन पूरा पुलिस महकमा मिलकर आज तक अखंड का सुराग नहीं लगा सका।


इसके बाद ईनाम घोषणा की शुरूआत हुई तो अब तक जारी है। पुलिस ने ईनाम की शुरूआत 25 हजार से की थी। डेढ़ माह पहले इसे बढ़ाकर एक लाख किया गया था। साथ ही इनके खिलाफ कुर्की की भी कार्रवाई शुरू की गयी। सात नवंबर को पुलिस ने अखंड के जमुआ गांव स्थित आवास पर कुर्की की नोटिस चस्पा कर मुनादी भी करायी लेकिन बाहुबली न तो सामने आया और ना ही आत्मसमर्पण किया। अब पुलिस ने अखंड पर ईनाम बढ़ाकर ढ़ाई लाख रूपये कर दिया है। साथ ही घोषणा की है कि जो भी अखंड की सूचना देगा उसे एक लाख रूपये का पुरस्कार अलग से दिया जाएगा। साथ ही उसका नाम पता गुप्त रखा जाएगा। 


पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह ने बताया कि अखंड पर 36 गंभीर मुकदमें दर्ज हैं। इसमें कई हत्या के मामले भी शामिल हैं। उसपर एक लाख का ईनाम पहले से घोषित था। उसका मूवमेंट अभी इधर दिख नहीं रहा था तो हम लोगों ने ईनाम की राशि बढ़ाकर ढाई लाख किया था। साथ ही हर स्टेट की क्राईम ब्राच को पत्र लिखा है सभी 75 जिलों के एसपी को पत्र लिखने के साथ ही उसका फोटो और प्रोफाइल दिया था ताकि किसी को इसके बारे में कोई सूचना मिलती है तो उसे गिरफ्तार किया जा सके। साथ ही आज की डेट में हमें सूचना देता है और वह पकड़ा जाता है तो सूचना देने वाले को एक लाख रूपया दिया जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ अखंड ने अपने अधिवक्ता के जरिये अदालत में आत्म समर्पण कर दिया।


Popular posts
लखीमपुर सदर कोतवाली ने जमा कराई दर्जनों बाइकों व कारों की चाबियां
Image
कोरोना वायरस के संदिग्ध मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। आज 12 और मरीज भर्ती हुए हैं। 20 बेड का एक और नया वार्ड तैयार किया गया है। वहीं एक निजी अस्पताल के चिकित्सक की दूसरी बार जांच पूना भेजी गई है।
पंजाब नैशनल बैंक लोनी शाखा में साथी सतेंदर जी को करोना पॉजिटिव निकला राजेंदर नगर हॉस्पिटल में भर्ती हुए बाकी साथियो को संतोष हॉस्पिटल में कोरनटाइम के लिए भर्ती किया
Image
भाजपा सरकार में अरबों रूपए का एक बड़ा घोटाला सामने आया
टोटल टीवी की एंकर समेत कई मीडियाकर्मियों को हुआ कोरोना