देखिए और अगर संवेदना है तो महसूस कीजिए! ये उन्नाव की उस बेटी का घर है जो साल भर से अपनी इज़्ज़त के लिए दबंगो से लड़ रही थी.

देखिए और अगर संवेदना है तो महसूस कीजिए!


ये उन्नाव की उस बेटी का घर है जो साल भर से अपनी इज़्ज़त के लिए दबंगो से लड़ रही थी. सोचिए इस घर की बेटी किस तरह जूझी होगी उस पुलिस से जिसने उसका मुकदमा नहीं लिखा, कैसे वो ला पायी होगी एफ़आईआर के लिए अदालती आदेश. 
क्या गजब का हौसला था उसमे जो अब अपने गुनाहगारो के बाहर आने पर फिर चल पड़ी थी संघर्ष की राह पर...
अकेले, बिल्कुल अकेले. उसके हौसले से नहीं लड़ सकते थे तो जिंदा फूंक दिया हैवानो ने. वो दामिनी जलता बदन लेकर एक किलोमीटर तक भागी. उसी हालत में खुद पुलिस को फोन किया. जिजीविशा ऐसी कि आखिरी पल तक यही कहती रही कि मुझे जीना है, मुझे उन्हें फांसी पर लटके हुए देखना है.सोचिए उसकी आत्मा कितने गहरे आहत हुई होगी, किस जलालत का सामना उसने किया होगा. ध्यान से देखिए आंगन में एक तुलसी भी है...
अब तो शायद ये भी सूख जाए !!


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
NNew positive 7 Total positive 334 Details soon
गिरफ्तार DSP से मेडल वापस लिया जाएगा, शेर-ए-कश्मीर पुलिस मेडल वापस लिया जाएगा, आतंकियों के साथ गिरफ्तार हुआ था देविंदर सिंह,
फिर पलटेगा मौसम, बारिश , ओलावृष्टि की संभावनाएं चेतन ठठेरा
AAG विनोद शाही ने CM योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर पद सृजन समेत तमाम मामलों पर किया विचार विमर्श...
Image