भेड़िए हर बार भेष बदलकर आए!

भेड़िए हर बार भेष बदलकर आए!


सबसे पहले वो नोटबंदी के बहाने आए
मै कुछ नहीं बोला क्यूंकि मै कालाधान के बहाने पूंजीपतियों को बर्बाद होते देखना चाहता था 


फिर वो जी एस टी के बहाने आए
मैं चुप रहा क्यूंकि मुझे लगता था मोटा लाला अब रास्ते में आएगा


वो बलात्कारियों के पक्ष में खड़े होते रहे 
और मैं इत्मीनान से रहा क्यूंकि मेरी बहन बेटी मां सब सुरक्षित है


वो आदिवासियों से उनके जमीन छीनकर 
अंबानी को देने लगे 
और मैं विकास के सपने देखने लगा


फिर उन्होंने कश्मीरियों पे जुल्म किए 
और मैं वहां जमीन खरीदने के सपने देखता रहा 


वो मुस्लिमों को कभी भीड़ द्वारा मरवाते रहे 
कभी दलितों को
और मैं इस बात से खुश था क्यूंकि मुझे लगता था कि यहीं लोग हमारी बर्बादी के जिम्मेदार है


वो नौजवानों से नौकरी छीनते रहे 
और मैं चैन से रहा क्यूंकि मेरी नौकरी सुरक्षित थी


लेकिन अब वो हमारी नागरिकता भी छीनने वाले है 
और सब चुप है 
क्योंकि वे नहीं जानते क्या होता है नागरिक न होना


मार्टिन निलोमर की कविता से प्रेरित


 


Popular posts
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
NNew positive 7 Total positive 334 Details soon
गिरफ्तार DSP से मेडल वापस लिया जाएगा, शेर-ए-कश्मीर पुलिस मेडल वापस लिया जाएगा, आतंकियों के साथ गिरफ्तार हुआ था देविंदर सिंह,
फिर पलटेगा मौसम, बारिश , ओलावृष्टि की संभावनाएं चेतन ठठेरा
AAG विनोद शाही ने CM योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर पद सृजन समेत तमाम मामलों पर किया विचार विमर्श...
Image