तीस हजारी अदालत परिसर में दो नवंबर की झड़प और सार्वजनिक प्रदर्शन करने और धरना देने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर की गई. 

तीस हजारी अदालत परिसर में दो नवंबर की झड़प और सार्वजनिक प्रदर्शन करने और धरना देने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ दिल्ली उच्च न्यायालय में याचिका दायर की गई. 


 


पुलिसकर्मियों और वकीलों के बीच तनाव पिछले शनिवार से बना हुआ है. जब पार्किंग के विवाद को लेकर हुई झड़प में 20 सुरक्षाकर्मी और कई वकील घायल हो गये थे. इसके बाद हजारों पुलिसकर्मियों ने मंगलवार को पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन किया था और साकेत अदालत के बाहर उनके सहकर्मियों पर हमले में शामिल लोगों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी. पुलिस की वर्दी में हमलोग इंसान हैं', हमलोग कोई पंचिंग बैग नहीं हैं' और सुरक्षा करने वालों को सुरक्षा चाहिए' जैसे नारे लिखी तख्तियां लेकर महिला एवं पुरुष पुलिसकर्मी प्रदर्शन कर रहे थे और अपने वरिष्ठों से वर्दी का सम्मान बचाने के लिये उनके साथ खड़ा होने का अनुरोध कर रहे थे.
इस प्रकरण में कुछ वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने सोशल मीडिया पर विचार जाहिर किए थे. दिल्ली पुलिस के पूर्व जनसंपर्क अधिकारी मधुर वर्मा फिलहाल अरुणाचल प्रदेश के डीआईजी हैं. उन्होंने लिखा था ,माफी चाहता हूं.हमलोग पुलिस वाले हैं. हमारा कोई वजूद नहीं है.हमारा कोई परिवार नहीं है. हमारे लिये कोई मानवाधिकार नहीं है! दिल्ली के पूर्व डीसीपी असलम खान जो फिलहाल गोवा में तैनात हैं, उन्होंने भी मधुर वर्मा का साथ देते हुए हमले का एक वीडियो पोस्ट किया और साथ में लिखा, खाकी की स्थिति बदतर होती जा रही है. आईपीएस एसोसिएशन ने भी हमले की निंदा की थी और अपमान एवं हमले का निशाना बने सहकर्मियों के प्रति एकजुटता दिखायी थी. दिल्ली उच्च न्यायालय में गुरुवार को एक याचिका दायर कर तीस हजारी अदालत परिसर में दो नवंबर की झड़प और सार्वजनिक प्रदर्शन करने और धरना देने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई का अनुरोध किया गया है. वकील राकेश कुमार लकड़ा ने यह याचिका दायर की है. याचिका में वकीलों और पुलिस के बीच हुई झड़प से संबंधित मामला अदालत के विचाराधीन होने के बावजूद सोशल मीडिया में बयान जारी करने वाले पुलिस अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की मांग की गई है. इस जनहित याचिका को शुक्रवार को सुनवाई के लिये सूचीबद्ध किया गया है. इस याचिका में केंद्र सरकार के साथ ही दिल्ली पुलिस, दिल्ली के पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक, अरुणाचल प्रदेश के पुलिस उपमहानिरीक्षक मधुर वर्मा, दिल्ली पुलिस के पूर्व उपायुक्त असलम खान, एनआईए की पुलिस अधीक्षक संयुक्ता पराशर और आईपीएस अधिकारी मेघना यादव को पक्षकार बनाया गया है. याचिका में धरना पर बैठने वाले, भड़काऊ नारे लगाने वाले और इलेक्ट्रॉनिक एवं सोशल मीडिया पर उकसाने वाले बयान जारी करने वाले दिल्ली पुलिस अधिकारियों के खिलाफ विभागीय जांच शुरू करने के संबंध में केंद्र को निर्देश देने का अनुरोध किया गया है. इसमें आरोप लगाया गया है कि पुलिस अधिकारियों ने सार्वजनिक रूप से प्रदर्शन किया जो उनकी आधिकारिक ड्यूटी का उल्लंघन है. दिल्ली हाई कोर्ट में दाखिल याचिका में कहा गया है कि पुलिस अधिकारियों की इस तरह की बयानबाजी आपत्तिजनक और सेवा शर्तों का उल्लंघन है।


Popular posts
ज़िला बिजनौर के नूरपुर मे मोहल्ला बंज़ारन मे कल रात दो बहन भाई को corona positive निकला जिसमें लड़के की उम्र 10 साल और लड़की की उम्र 13 साल बतायी जा
लखनऊ चौक इलाके में दिनदहाड़े गोली मार हत्याकर लूट की वारदात को अंजाम देने वाले बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग! 24 घंटे में खुलासा होने का दावा काबीना मंत्री बृजेश पाठक और लखनऊ पुलिस कमिश्नर ने मृतक के परिजनों और व्यापारी संगठन को दिया था आश्वासन! रुपये से भरा बैग छीनने के दौरान हत्या करने बदमाशों का नहीं लगा कोई सुराग ! 10 दिन बीत जाने के बाद भी लखनऊ पुलिस कमिश्नरी सिस्टम की हाईटेक क्राइम टीम के हाथ अब तक खाली..... 24 घंटे के अंदर बदमाशों को पकड़ने का जिम्मेवारों ने किया दावा हुआ फेल....... व्यापार संगठन एक दिन प्रदर्शन करने के बाद बैठा शांत,गुलदस्ता भेंट के बाद व्हाट्सएप ग्रुप पर अपडेट करने दौर हुआ शुरू बीते 20 फरवरी को चौक रकाबगंज इलाके में बाइक सवार चार बदमाशों ने दिया था रुपये से भरा बैग लूट के बाद हत्या को दिया था अंजाम.. जेल में बन्द बदमाशों को सीसीटीवी में दिखे बदमाशों की फ़ोटो से कराई गई पहचान, एक दर्जन से ज्यादा बदमाशों से की जा चुकी हैं पूछताछ कमला पसंद एजेंसी में दिनदहाड़े बदमाशों का हमला कर लूट का विरोध करने पर बदमाशों ने सुभाष नाम के कर्मचारी को मारी थी गोली, सरकार द्वारा पूरे मामले का संज्ञान लेने के बाद भी लखनऊ पुलिस के हाथ अब तक खाली.......!
26 अक्टूबर से बंद हो जाएगा पुलिस का dial 100
आज स्वामीप्रसाद प्रसाद मौर्य यूथ बिर्गेड के सरक्षक उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद ने अपनी मौर्य बिर्गेड के मेरठ जिला प्रभारी अनिल मौर्य के द्वारा मेरठ टीम के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग की बिर्गेड द्वारा  किये गए सामाजिक कार्यो की समीक्षा की
Image
इटावा सड़क हादसे में एक ही परिवार के चार लोगों की दर्दनाक मौत।*