मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन एकता दिवस के रूप में मनायेगी। साथ ही उन्होने अखिलेश या  को एक आफर भी दिया कि यदि सपा प्रसपा एकसाथ आतें हैं तो 2022 मे अखिलेश यादव मुख्यमंत्री हो सकतें हैं।  यह


 प्रगतिशील समाजवादी पार्टी 22 नवंबर को मुलायम सिंह यादव का जन्मदिन एकता दिवस के रूप में मनायेगी। साथ ही उन्होने अखिलेश या  को एक आफर भी दिया कि यदि सपा प्रसपा एकसाथ आतें हैं तो 2022 मे अखिलेश यादव मुख्यमंत्री हो सकतें हैं।  यह घोषणा प्रसपा अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने इटावा मे की।


इटावा जिले के सिंचाई विभाग के डाक बंगले में प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि 22 नवंबर को नेताजी (मुलायम सिंह यादव) का जन्मदिन है। 22 नवंबर को प्रसपा पूरे प्रदेश में एकता दिवस के रूप में मनायेगी। इस मौके पर सैफ़ई में दंगल भी आयोजित होगा, हालांकि नेताजी स्वास्थ्य कारणों से सैफ़ई नहीं आ सकेंगे।


इससे पहले एक कार्यक्रम के दौरान, शिवपाल सिंह यादव ने कहा, 'हम चाहते हैं नेता जी के जन्मदिन (22 नवंबर) पर परिवार में एकता बढ़ जाए तो अच्छा है। उन्होने कहा कि वे सपा से गठबंधन को तैयार हैं। अब अखिलेश को भी इस बात के लिए मान जाना चाहिए। हमारा प्रयास है भतीजा समझ लेगा तो सरकार बना लेगा, मुख्यमंत्री हमें तो बनना नहीं है। मुख्यमंत्री तो अखिलेश यादव ही बनेंगे। अखिलेश मान जाएंगे तो 2022 में प्रदेश में सरकार भी बना लेंगे।


इटावा के सिंचाई भवन में अपनी पार्टी की बैठक के दौरान शिवपाल सिंह यादव ने मीडिया से साफ कहा कि वह गठबंधन के मामले में सिर्फ समाजवादी पार्टी को वरीयता देंगे। वह अखिलेश यादव को एक बार फिर से उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री देखना चाहते हैं। प्रसपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा कि यदि सपा से गठबंधन नहीं हो पाया तो बाद में देखेंगे।


 शिवपाल यादव के इस बयान के बाद सूबे के सियासी गलियारे में यादव परिवार के एक होने की सुगबुगाहट फिर तेज हो गई है। कहा जा रहा है कि 22 नवंबर को मुलायम के जन्मदिन के मौके पर चाचा और भतीजा एक साथ दिख सकते हैं।