ईरान ने 53 अरब बैरल के नये तेल भंडार की खोज की

ईरान ने 53 अरब बैरल के नये तेल भंडार की खोज की
ईरान के दक्षिणी हिस्से में हाल ही में कच्चे तेल का एक नया भंडार मिला है. ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने 10 नवंबर 2019 को बताया कि उनके देश में लगभग 50 अरब बैरल के कच्चे तेल के भंडार की खोज की गई है.


इस नए तेल क्षेत्र की खोज के बाद ईरान के प्रामाणिक तेल भंडारों में लगभग 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी हो जायेगी. हालांकि, ईरान के लिए अमेरिकी प्रतिबंधों के बीच तेल की बिक्री करना मुश्किल हो गया है.


अमेरिका ने साल 2018 में ईरान के साथ न्यूक्लियर डील को रद्द करके उस पर तमाम प्रतिबंध थोप दिए थे. इसके बाद से ईरान के सामने तेल बेचने की चुनौती पैदा हो गई है. यह ऑयल फील्ड ईरान के दक्षिणी कुजेस्तान प्रांत में स्थित है. इसे ऑयल इंडस्ट्री के लिए बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है.


नये तेल भंडार 2,400 वर्ग किलोमीटर के दायरे में फैला है. यह क्षेत्र लगभग 200 किलोमीटर की दूरी में 80 मीटर गहराई तक फैले हैं. ईरान की स्थापित कच्चा तेल भंडार क्षमता अब 155.6 अरब बैरल होने का अनुमान है.


ईरान के पास विश्व का चौथा सबसे बड़ा तेल भंडार है तथा प्राकृतिक गैस का दूसरा सबसे बड़ा भंडार भी इसी देश के पास है. ईरान विश्व के सबसे बड़े तेल उत्पादकों में से एक है, जिसका प्रत्येक साल अरबों डॉलर का निर्यात होता है.


वैश्विक शक्तियों के साथ अपने परमाणु कार्यक्रम को लेकर किसी डील पर पहुंचने में विफल रहने के बाद अमेरिकी प्रतिबंधों के चलते ईरान का ऊर्जा उद्योग बहुत बुरी तरह प्रभावित हुआ है.


यह भी पढ़ें:भारत-उज्बेकिस्तान के बीच सैन्य संबंधों को बढ़ाने हेतु तीन समझौतों पर हस्ताक्षर


पृष्ठभूमि


ईरान से तेल खरीदने वाली कोई भी कंपनी या सरकार को अमेरिकी प्रतिबंधों का डर है जिसके कारण से ईरान की अर्थव्यवस्था बुरी तरह प्रभावित हुई है तथा ईरान की मुद्रा रियाल में तेजी से गिरावट आई है. न्यूक्लियर समझौता रद्द �


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
फिर पलटेगा मौसम, बारिश , ओलावृष्टि की संभावनाएं चेतन ठठेरा
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
कोरोना संक्रमित की बढ़ती संख्या को देखते हुये निजी अस्पतालों में भी मरीजो का इलाज होगा 17 ऐसे निजी अस्पतालों के चयन कर लिया गया है
अरविंद केजरीवाल की ताजपोशी लगातार तीसरी बार संभाली दिल्ली की कमान