छात्रों से आत्मीय रिश्ता बनाएं शिक्षक-- राज्यपाल 207 प्राथमिक विद्यालयों के अंगीकरण कार्यक्रम को किया संबोधित

सुलतानपुर ब्रेकिंग



छात्रों से आत्मीय रिश्ता बनाएं शिक्षक-- राज्यपाल


207 प्राथमिक विद्यालयों के अंगीकरण कार्यक्रम को किया संबोधित


*शिक्षक संगठन व समाजसेवी हुए सम्मानित*


सुल्तानपुर।राज्यपाल आनंदीबेन पटेल बोली जब तक स्कूलों में नहीं होंगे सांस्कृतिक कार्यक्रम नहीं निखरेगी नौनिहालों की मेघा। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के जरिए होती बच्चों में विशिष्टता की पहचान। सरकारी स्कूल गोद लेने वालों का किया सम्मान।राज्यपाल ने दिव्यांग बच्चों को फल की टोकरी दी,बच्चों को दुलारा।प्राइमरी विद्यालयों को उत्कृष्ट बनाने वाले पांच शिक्षकों को राज्यपाल ने सम्मानित किया।
बेसिक शिक्षा मंत्री डॉ सतीश द्विवेदी ने कहा कि स्कूलों से भावनात्मक रिश्ता बनाएं अभिभावक व आमजन।किचन गार्डन बने स्कूलों में ।राष्ट्रीय संगोष्ठी करेगा बेसिक शिक्षा विभाग।मां समितियां जांचे स्कूलों में मिड डे मील।प्राथमिक शिक्षा में जो खर्च कर रही सरकार इससे ज्यादा नहीं खर्च कर सकती सरकार।आमजनों को जिम्मेदारी निभानी चाहिए। राज्यपाल ने अपने संबोधन में कहा कि स्कूलों में जनसहयोग का कार्य देश में जगह जगह शुरू हुआ है। ये सार्थक संकेत है। जबतक पूरा गांव नहीं जुड़ेगा ग्रामीण जिम्मेदारी नहीं लेंगे तबतक काम नहीं बनेगा।स्कूल भवनों के निर्माण में सहयोग मिला गुजरात में।पहले टीचर्स को जिम्मेदारी देनी चाहिये फिर गांव वालों को।शिक्षकों पर होती है शिक्षा को बढ़ावा देने की जिम्मेदारी।बच्चों की प्रतिभा की पहचान होनी चाहिए शिक्षकों को। उन्हें उसी हिसाब से आगे बढ़ाना चाहिये। प्रिंसिपल के कमरे से जीर्णोद्धार नहीं बल्कि बच्चों की जरूरत के हिसा से शुरू करिये स्कूलों का जीर्णोद्धार।निजी स्कूलों के संचालक अपनी बसें दे सकते हैं सप्ताह में एक दिन सरकारी स्कूलों के बच्चों को टूर के लिए। नाश्ता भी दें साथ साथ। ,..यही सहयोग है। बच्चों के परस्पर संपर्क से टूटती है जाति की दीवार
।दिल से करें सेवा फल की आशा में नहीं ।क्वालिटी एजुकेशन की जरूरत पर टीचर्स पहले खुद में क्वालिटी पैदा करें ।टूर से बच्चों को मिलता व्यावहारिक ज्ञान, जो पढ़ाई से संभव नहीं । राज्यपाल बोली अब भी सबसे अधिक भरोसा प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों पर। पहले जमाने में लोग आने वाले खत उन्हीं से पढ़ाते थे। दादा दादी के नाम पर चलते थे कालेज लोग देते थे गुप्त दान। बढ़ता था प्राथमिक विद्यालय का सम्मान और कद। प्राथमिक विद्यालयों के उत्थान और नौनिहालों के भविष्य निर्माण कार्यक्रम में शामिल होने पहुंची राज्यपाल आनंदीबेन पटेल। काशी प्रांत के उपाध्यक्ष रामचंद्र मिश्र के आयोजन को बताया अनुकरणीय। कार्यक्रम को डॉ जेपी सिंह डीएस मिश्र सीएमओ सीवीएन त्रिपाठी समाजसेवी करतार केशव यादव, सरदार बलदेव सिंह, डॉ अखंड प्रताप सिंह ,पत्रकार अधिवक्ता जीतेन्द्र श्रीवास्तव अजय सिंह संतबख्श सिंह ने भी संबोधित किया। इस मौके पर इलियास खान,   डॉ बीबी सिंह, सीएमओ राम शब्द मिश्र, डॉ रमेश ओझा, करुणा शंकर द्विवेदी, जियाउल हसनैन, सुशील त्रिपाठी ,करुणा शंकर द्विवेदी शशिकांत पांडेय पूजा कसौधन आलोक आर्य राकेश पालीवाल आशीष अग्रवाल अशोक अग्रवाल आदि मौजूद रहे। डीएम सी इंदुमति व एसपी हिमांशु कुमार के नेतृत्व में पुलिस प्रशासन की चाक चौबंद व्यवस्था रही।