बदलेगी सरकारी राशन की दुकानों की सूरत, मिलेंगे ये भी आइटम

बदलेगी सरकारी राशन की दुकानों की सूरत, मिलेंगे ये भी आइटम
  


*लखनऊ* उत्तर प्रदेश के राशन दुकानदार अब आम आदमी के उपयोग की रोजमर्रा की वस्तुएं तथा स्वास्थ्य सुरक्षा सम्बंधी वस्तुएं भी बेच सकेंगे। प्रदेश सरकार ने राशन दुकानदारों की आय बढ़ाने के लिए यह फैसला लिया है।


जो वस्तुएं राशन की दुकान पर बेची जा सकेंगी उनमें  साबुन, शैम्पू, टूथपेस्ट, चाय, पेन, कॉपी, ओआरएस टेबलेट व घोल, निरोध व सेनेटरी नैपकिन शामिल है।
प्रदेश में करीब 80 हजार राशन दुकानदार हैं। सार्वजनिक वितरण प्रणाली में एपीएल (गरीबी की रेखा से ऊपर) आदि योजनाओं के बंद होने के बाद सिर्फ अन्त्योदय और खाद्य सुरक्षा (पात्र गृहस्थी) काम बचा है।



डोर स्टेप डिलीवरी के बाद सरकारी गोदाम से खाद्यान्न लाने के मद में मिलने वाला 10 रुपया भी बंद हो गया है। ऐसे में, लंबे समय से प्रदेश सरकार राशन दुकानदारों की आय बढ़ाने की कोशिश कर रही है। इसी के तहत बिजली के बिल राशन दुकानों पर जमा कराने की भी व्यवस्था बीते दिनों की गई थी। 


खाद्य आयुक्त, सभी मण्डलायुक्त और जिलाधिकारी को भेजे आदेश में कहा गया है कि राशन दुकानों से बेचे जाने की अनुमति इस शर्त के साथ दी जा रही है कि इन वस्तुओं का निर्माण करने वाली कम्पनी एफएसएसएआई के मानकों का पालन करती हो। वस्तुओं की गुणवत्ता भी सक्षम स्तर से प्रमाणीकृत हों। 


Popular posts
लोहिया नगर मेरठ स्थित सत्य साईं कुष्ठ आश्रम पर श्री महेन्द्र भुरंडा जी एवं उनके पुत्र श्री देवेन्द्र भुरंडा जी ने बेसहारा और बीमार कुष्ठ रोगियों के लिए राशन वितरित किया।  
Image
AAG विनोद शाही ने CM योगी आदित्यनाथ से मुलाकात कर लखनऊ और नोएडा में पुलिस कमिश्नर पद सृजन समेत तमाम मामलों पर किया विचार विमर्श...
Image
राजस्थान के जयपुर में 28 फरवरी, सन् 1928 को दीनाभाना जी का जन्म हुआ था। बहुत ही कम लोग जानते हैं कि वाल्मीकि जाति (अनुसूचित) से संबंधित इसी व्यक्ति की वजह से बामसेफ और बाद में बहुजन समाज पार्टी का निर्माण हुआ था।
<no title>
Image
<no title>
Image