उप्र में 25 हजार होमगार्डों की सेवाएं बहाल की गईं

उप्र में 25 हजार होमगार्डों की सेवाएं बहाल की गईं


 


- होमगार्ड जवानों ने दीपावली पर्व का हवाला देते हुए सड़कों पर मांगी थी भीख


- अब किसी भी होमगार्ड जवान की सेवाएं बर्खास्त नहीं की जायेंगीं


 



लखनऊ, 24 अक्टूबर । उत्तर प्रदेश के 25 हजार होमगार्ड जवानों के लिए गुरुवार का दिन खुशखबरी लेकर आया। सरकार ने सभी होमगार्ड जवानों की सेवायें बहाल करने का फैसला लिया है। अब किसी भी होमगार्ड जवान की सेवाएं बर्खास्त नहीं की जायेंगीं। 



विशेष सचिव आरपी सिंह ने बताया कि होमगार्ड पुलिस विभाग का एक अभिन्न अंग है। इस लिहाज से होमगार्ड विभाग उपलब्ध बजट की सीमा तक सभी जवानों की ड्यूटी लगायेगा। आगामी त्योहारों के दृष्टिगत गृह विभाग के भुगतान के आधार पर वर्तमान में चल रही व्यवस्था आवश्यकतानुसार आने वाले आदेशों तक ऐसे ही बनाये रखी जायगी। 



उत्तर प्रदेश में 15 अक्टूबर को कानून व्यवस्था और शांति व्यवस्था कायम करने के लिए पुलिस महकमे ने अपने बजट पर 25 हजार होमगार्ड जवानों की सेवाएं लेने से मना कर दिया था। एडीजी पुलिस मुख्यालय बीपी जोगदंड ने सभी पुलिस कप्तानों को इस संबंध में आदेश जारी किया था। इसका मुख्य कारण बजट बताया गया था। 25 हजार होमगार्ड जवानों को एक झटके में बाहर का रास्ता दिखाया गया था। इसके बाद सभी होमगार्ड जवानों ने दीपावली पर्व का हवाला देते हुए सड़कों पर भीख मांगकर परिवार की जीविका चलाने की बात कहकर सरकार पर निशाना साधा था।



इसके बाद पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने कहा था कि होमगार्ड जवानों की सेवाएं बर्खास्त नहीं की गईं हैं, सिर्फ बजट की कमी से इनकी ड्यूटी रोकी गई है। उनका कहना था कि सुप्रीम कोर्ट ने होमगार्ड जवानों को पुलिस के सिपाही के बराबर वेतन देने का आदेश दिया है, इसलिए बजट आते ही 25 हजार होमगार्ड जवानों की रोकी गई ड्यूटी बहाल किये जाने की बात कही थी। उनके इस आश्वासन के बाद होमगार्ड जवानों को जल्द ही ड्यूटी बहाल उम्मीद बढ़ गई थी। 



अब गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने जारी आदेश ने कहा है कि प्रदेश में कानून-व्यवस्था और आगामी त्योहारों को देखते हुए गृह विभाग के भुगतान के आधार पर वर्तमान में चल रही व्यवस्था आवश्यकतानुसार आने वाले आदेशों तक ऐसे ही बनाये रखी जायगी। यानी अब किसी भी होमगार्ड जवान की सेवाएं बर्खास्त नहीं की जायेंगीं।