सरकार ने मांगे मानी, तब देर शाम हुआ कमलेश का अंतिम संस्कार

सरकार ने मांगे मानी, तब देर शाम हुआ कमलेश का अंतिम संस्कार



हिंदू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी का शनिवार दोपहर बाद महमूदाबाद में भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच अंतिम संस्कार कर दिया गया। महमूदाबाद उनका शव पहुंचने पर क्षेत्रीय लोगों के अलावा भारी तादात में उनके शुभचिंतकों पहुंच गए थे। का भारीपर देर राहत से ही गहमागहमी बनी हुई थी। 


परिवार के लोग मुख्यमंत्री को बुलाने सहित कई मांगों पर अड़े थे। प्रशासनिक अफसरों ने मुख्यमंत्री से परिवार के लोगों की मुलाकात कराने सहित कई मांगे मान ली हैं। जिसके बाद सुरक्षा व्यवस्था के बीच कमलेश तिवारी का अंतिम संस्कार  हुआ। 



कमलेश की मां ने सरकार पर लगाए आरोप 



अपने बेटे को खो देने वाली कुसुमा देवी ने एक स्थानीय नेता सहित प्रदेश सरकार पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि सपा सरकार में कमलेश तिवारी की सुरक्षा अधिक थी। तब डेढ़ दर्जन सुरक्षा कर्मी लगे थे, लेकिन भाजपा सरकार ने सुरक्षा कम कर दी थी। वह भी कमजोर पुलिस कर्मी लगाए गए थे। उन्होंने सरकार पर और भी गंभीर आरोप लगाए। साथ ही कुसुमा देवी ने स्थानीय भाजपा के पिछड़ा वर्ग मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष शिव कुमार गुप्ता पर भी आरोप लगाया। बोलीं: रामजानकारी मंदिर ट्रस्ट को लेकर कमलेश का शिव कुमार गुप्ता से विवाद चल रहा था। घटना के पीछे उनका भी हाथ हो सकता है। 



वहीं बेटे ने कहा प्रदेश सरकार व पुलिस पर भरोसा नहीं?


कमलेश तिवारी के बेटे सत्यम ने पिता की हत्या के प्रकरण की एनआईए से जांच कराने की मांग की। उसने कहा कि प्रदेश सरकार व पुलिस पर भरोसा नहीं है। हिंदूवादी सरकार में प्रखर हिंदूवादी नेता व उसके पिता कमलेश तिवारी की हत्या कर दी गई। ऐसे में पुलिस व सरकार पर निष्पक्ष जांच व कार्रवाई का भरोसा नहीं है। इसलिए एनआईए से जांच कराई जाए। हालांकि सत्यम् की एनआईए से जांच की मांग मान ली गई है। 



पुलिस बर्बरता की शिकार हुई कमलेश की पत्नी



कमलेश तिवारी की हिंदू समाज पार्टी के महामंत्री राजेश मणि त्रिपाठी ने लखनऊ पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए। उनका कहना है कि लखनऊ की नाका पुलिस ने बर्बता की है। पुलिस लाठी चार्ज में कमलेश तिवारी की पत्नी चोटिल हुई हैं। राजेश मणि त्रिपाठी ने लखनऊ एसएसपी को हटाने व नाका थाना पुलिस को सस्पेंड करने की मांग की। उन्होंने कहा कि यदि उनकी इस मांग पर तीन दिन में कार्रवाई न हुई तो वह प्रदर्शन करेंगे।